पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Business
  • Shaktikanta Das: RBI Governor Shaktikanta Das On India December Retail Inflation

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अक्टूबर के मुकाबले घटी महंगाई:नवंबर में खुदरा महंगाई दर में मामूली कमी, 6.93% पर रही, अक्टूबर में 7.61% पर थी

मुंबई5 महीने पहले
ब्रोकरेज हाउस का मानना था कि खुदरा महंगाई दर मौजूदा लेवल से नीचे जाएगी। इसकी वजह जाड़ों में सब्जियों के दाम में आमतौर पर होने वाली गिरावट और महंगाई का पिछले साल का हाई बेस होगा
  • लगातार दो महीनों तक रिटेल महंगाई (खुदरा) की दर 7% से ऊपर थी
  • अक्टूबर 2020 में रिटेल महंगाई की दर साढ़े 6 साल में सबसे ज्यादा हो गई थी

नवंबर महीने में खुदरा महंगाई दर में मामूली कमी आई है। यह 6.93% रही है। कमी आने का कारण सब्जियों की कीमतों में कमी रही है। इससे पहले लगातार दो महीनों तक रिटेल महंगाई (खुदरा) की दर 7% से ऊपर थी। यह अक्टूबर 2020 में साढ़े 6 साल में सबसे ज्यादा हो गई थी। उस समय यह 7.61% पर थी।

इसमें फूड प्राइस की महंगाई की दर 9.43% रही है जो कि अक्टूबर में 11.07% थी। इसका मतलब यह हुआ कि जरूरी चीजों जैसे सब्जियों, मांस मछली, अंडा आदि की कीमतों में मामूली कमी आई है।

महंगाई में कमी आने की संभावना कम

भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा था कि महंगाई में अभी कमी आने की संभावना कम है। 2-4 दिसंबर की मीटिंग में रिजर्व बैंक ने अपनी नीतित दरों में कोई कमी नहीं की थी। इसमें कोई बदलाव नहीं हुआ था।

खाने-पीने के सामान की महंगाई 10.12% थी

अक्टूबर में खाने-पीने की महंगाई की दर 10.12% थी। सोने के भाव में मासिक आधार पर आई तेज गिरावट के चलते नवंबर में कोर कंज्यूमर प्राइस इंडेक्स (इसमें खाने-पीने के सामान और ईंधन उत्पाद शामिल नहीं होते हैं) क्रूड ऑयल का भाव चढ़ने से पेट्रोल और डीजल में महंगाई नवंबर में भी ज्यादा रहने का अनुमान जताया गया था।

खुदरा महंगाई दर मौजूदा लेवल से नीचे जाएगी

ब्रोकरेज हाउस का मानना था कि खुदरा महंगाई दर मौजूदा लेवल से नीचे जाएगी। इसकी वजह जाड़ों में सब्जियों के दाम में आमतौर पर होने वाली गिरावट और महंगाई का पिछले साल का हाई बेस होगा। यहां गौर करने वाली बात यह है कि ग्लोबल मार्केट में कमोडिटी का भाव फिर से चढ़ रहा है।

थोक महंगाई की दर बढ़कर 1.55 पर्सेंट पर पहुंची

खाने-पीने के सामान का दाम ऊँचा रहने और ग्लोबल मार्केट में मेटल और क्रूड ऑयल का भाव चढ़ने से थोक महंगाई नवंबर में 1.55% पर पहुंच गई है। अक्टूबर में 1.48% रही थी। जहां तक कोर होलसेल प्राइस इंडेक्स (इसमें खाने पीने के सामान और ईंधन उत्पाद शामिल नहीं होते हैं) आधारित महंगाई की बात है तो ग्लोबल मार्केट में इंडस्ट्रियल मेटल का भाव चढ़े रहने से यह नवंबर बढ़ी है।

IIP में 3.6% की बढ़त थी

औद्योगिक उत्पादन से जुड़ा सूचकांक यानी IIP में 3.6% की बढ़त हुई है। पिछले हफ्ते इसका आंकड़ा रिलीज किया गया था। सितंबर में इसमें 0.5% की बढ़त हुई थी। हालांकि इससे पहले 6 महीने तक लगातार इसमें गिरावट रही थी। दूसरी तिमाही में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में 7.5% की गिरावट आई थी। पहली तिमाही में इसमें 23.9% की गिरावट थी।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय चुनौतीपूर्ण है। परंतु फिर भी आप अपनी योग्यता और मेहनत द्वारा हर परिस्थिति का सामना करने में सक्षम रहेंगे। लोग आपके कार्यों की सराहना करेंगे। भविष्य संबंधी योजनाओं को लेकर भी परिवार के साथ...

और पढ़ें