कार्रवाई:RBI ने इंडसइंड बैंक पर लगाई 4.5 करोड़ रुपए की पेनाल्टी, बैंक ने नियामक के निर्देशों का पालन करने में ढिलाई बरती थी

नई दिल्लीएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
आरबीआई ने स्पष्ट किया कि बैंक और ग्राहक के बीच हुए किसी भी ट्र्रांजेक्शन या एग्रीमेंट की वैधता पहले की तरह कायम रहेगी - Dainik Bhaskar
आरबीआई ने स्पष्ट किया कि बैंक और ग्राहक के बीच हुए किसी भी ट्र्रांजेक्शन या एग्रीमेंट की वैधता पहले की तरह कायम रहेगी
  • पिछले महीने चेन्नई की श्रीराम सिटी यूनियन फाइनेंस पर RBI ने 5 लाख रुपए की पेनाल्टी लगाई थी
  • सिटी बैंक पर भी इस साल के शुरू में कुछ अन्य लापरवाही के मामले में 4 करोड़ रुपए का जुर्माना लगा था

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने इंडसइंड बैंक पर 4.5 करोड़ रुपए की पेनाल्टी लगाई है। बैंक ने आरबीआई के कुछ निर्देशों का पालन करने में ढिलाई बरती थी। आरबीआई ने हालांकि कहा कि बैंक और ग्राहक के बीच हुए किसी भी ट्र्रांजेक्शन या एग्रीमेंट की वैधता पहले की तरह कायम रहेगी।

आरबीआई ने पिछले महीने इसी तरह की कुछ अन्य लापरवाही के मामले में चेन्नई की श्रीराम सिटी यूनियन फाइनेंस पर 5 लाख रुपए की पेनाल्टी लगाई थी। सिटी बैंक पर भी इस साल के शुरू में कुछ अन्य लापरवाही के मामले में 4 करोड़ रुपए का जुर्माना लगा था।

कई निर्देशों के पालन में हुई थी लापरवाही

इंडसइंड बैंक ने जिन निर्देशों के पालन में ढिलाई बरती थी, वे एक्सपोजर नॉर्म्स, प्रूडेंशियल नॉर्म्स ऑन इनकम रिकग्नीशन, असेट क्लासिफिकेशन और प्रॉविजनिंग पर्टेनिंग टू एडवांसेज व अन्य से संबंधित थे। RBI ने कहा कि SPARC (सुपरवाइजरी प्रोग्राम फॉर असेसमेंट ऑफ रिस्क एंड कैपिटल)- मॉनिटरिंग ऑफ इंफोर्मेशन सबमिशन बाई बैंक, क्रिएशन ऑफ अ सेंट्रल रिपॉजिटरी ऑफ लार्ज कॉमन एक्सपोजर्स- अक्रॉस बैंक्स (सेंट्रल रिपॉजिटरी ऑफ इफोर्मेशन ऑन लार्ज क्रेडिट्स- रिवीजन इन रिपोर्टिंग के निर्देशों के संदर्भ में) और डिस्क्लोजर इन फाइनेंशियल स्टेटमेंट- नोट्स टू अकाउंट्स से संबंधित निर्देशों के पालन में भी लापरवाही हुई है।

खबरें और भी हैं...