• Hindi News
  • Business
  • RBI Monetary Policy Meeting 2022 Update: Interest Rate Hike May Be Announced

आज से शुरू हुई RBI की बैठक:इसमें 0.50% ब्याज दर बढ़ाने का हो सकता है ऐलान, इस साल अब तक 0.90% की बढ़ोतरी

11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) की मौद्रिक समीक्षा नीति की बैठक आज से शुरू हो चुकी है जो 5 अगस्त तक चलेगी। इसके खत्म होने के बाद RBI 5 अगस्त को क्रेडिट पॉलिसी का ऐलान करेगी। RBI मौद्रिक समीक्षा नीति की बैठक में रेपो रेट में बढ़ोतरी का ऐलान हो सकता है। उम्मीद है कि RBI रेपो रेट में 0.25% से 0.50% तक का इजाफा कर सकता है। फिलहाल रेपो रेट 4.90% है।

साल के आखिर तक 5.90% पर पहुंच सकता है रेपो रेट
एकसपर्ट्स के अनुसार RBI अगस्त के बाद अक्टूबर में होने वाली मौद्रिक समीक्षा नीति की बैठक में भी रेपो रेट में बढ़ोतरी कर सकता है। एक्सपर्ट्स के अनुसार साल के आखिर तक रेपो रेट 5.90% पर पहुंच जाएगा।

इस साल 2 बार बढ़ चुका हैं रेपो रेट
बढ़ती महंगाई से चिंतित RBI ने जून में ही रेपो रेट में 0.50% इजाफा किया था। इससे रेपो रेट 4.40% से बढ़कर 4.90% हो गई है। वहीं इससे पहले मई में भी इसमें 0.40% की बढ़ोतरी की मई थी।

क्या है रेपो और रिवर्स रेपो रेट?
रेपो रेट वह दर है जिस पर RBI द्वारा बैंकों को कर्ज दिया जाता है। बैंक इसी कर्ज से ग्राहकों को लोन देते हैं। रेपो रेट कम होने का अर्थ होता है कि बैंक से मिलने वाले कई तरह के लोन सस्ते हो जाएंगे, जबकि रिवर्स रेपो रेट, रेपो रेट से ठीक विपरीत होता है।

रिवर्स रेट वह दर है, जिस पर बैंकों की ओर से जमा राशि पर RBI से ब्याज मिलता है। रिवर्स रेपो रेट के जरिए बाजारों में लिक्विडिटी, यानी नगदी को ​नियंत्रित किया जाता है। रेपो रेट स्थिर होने का मतलब है कि बैंकों से मिलने वाले लोन की दरें भी स्थिर रहेंगी।

रेपो रेट बढ़ने से महंगा हो जाता है लोन
जब RBI रेपो रेट घटाता है, तो बैंक भी ज्यादातर समय ब्याज दरों को कम करते हैं। यानी ग्राहकों को दिए जाने वाले लोन की ब्याज दरें कम होती हैं, साथ ही EMI भी घटती है। इसी तरह जब रेपो रेट में बढ़ोतरी होती है, तो ब्याज दरों में बढ़ोतरी के कारण ग्राहक के लिए कर्ज महंगा हो जाता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि कॉमर्शियल बैंक को RBI से ज्यादा कीमतों पर पैसा मिलता है, जो उन्हें दरों को बढ़ाने के लिए मजबूर करता है।