• Hindi News
  • Business
  • RBI New Rules; Banks Freeze Current Accounts As Reserve Bank Of India Deadline Ends

RBI के नियम का असर:देश भर के बैंकों ने लाखों करेंट अकाउंट्स को बंद किया, ग्राहकों को ईमेल भेजकर दी जानकारी

मुंबई4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • बैंकर्स का कहना है कि ग्राहकों को पूरा समय दिया गया है
  • ग्राहकों ने इस पर ध्यान नहीं दिया। वे अंतिम समय तक इंतजार करते रहे

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के नियमों का पालन न करने परे देश भर के बैंकों ने लाखों करेंट अकाउंट्स को बंद कर दिया है। यह अकाउंट छोटे व्यापारियों के हैं, जिन्होंने रिजर्व बैंक के नियमों का पालन नहीं किया है। बैंकों ने ईमेल भेज कर ग्राहकों को इसकी जानकारी दी है।

कैश क्रेडिट को जारी रखेंगे तो अकाउंट बंद होगा

बैंकों ने ग्राहकों को भेजे गए ईमेल में कहा है कि RBI के निर्देशों के मद्देनजर हमारी सलाह है कि अगर आप ब्रांच के साथ अपने कैश क्रेडिट-ओवरड्राफ्ट (OD) खाते को जारी रख सकते हैं, तो आपके करेंट अकाउंट को बंद करना होगा। भारतीय स्टेट बैंक (SBI) ने अपने एक खाता धारक को भेजे पत्र में कहा है कि अब कैश क्रेडिट (CC) और OD सुविधा का लाभ एक साथ नहीं उठाया जा सकता है। इसलिए 30 दिनों के अंदर आप अपने बैंक अकाउंट को बंद करें।

SBI ने 60 हजार खाते बंद किए

पत्र में RBI के नियमों का हवाला देते हुए बैंक ने कहा कि उसे ऐसा अकाउंट खोलने की इजाजत नहीं है, जिसमें खाताधारक ने पहले ही लोन ले रखा हो। SBI अकेला ऐसा बैंक ने जिसने 60 हजार से ज्यादा करेंट अकाउंट्स को बंद कर दिया है। इसने इन खाताधारकों को कई बार इस संबंध में पत्र भेजा था।

पिछले साल रिजर्व बैंक ने नया नियम लागू किया था

पिछले साल अगस्त में रिजर्व बैंक ने करेंट अकाउंट को खोलने के संबंध में नया नियम लागू किया था। इस नियम के मुताबिक, करेंट अकाउंट किसी भी खाताधारक का उसी बैंक में हो सकता है, जिसमें उसकी कुल उधारी का कम से कम 10% लोन हो। बैंक ने ग्राहकों को इस नियम को पूरा करने के लिए 31 जुलाई तक का समय दिया था।

करेंट अकाउंट पर अनुशासन की योजना

इस नियम के पीछे जो मकसद है वह यह कि ग्राहक करेंट अकाउंट में अनुशासन रखे और उसके पैसों पर नजर रखी जा सके। साथ ही उसके कैश फ्लो का भी इससे पता चलेगा। रिजर्व बैंक की नजर में यह आया था कि काफी सारे करेंट अकाउंट्स से पैसों को इधर- उधर किया जाता है और इसके लिए ढेर सारे करेंट अकाउंट अलग-अलग बैंकों में खोले जाते हैं।

क्रेडिट अनुशासन बना रहेगा

रिजर्व बैंक का मानना है कि इससे क्रेडिट अनुशासन बना रहेगा। एक बैंक के अधिकारी ने कहा कि इस नए नियम के आने से हमें हजारों खातों को बंद करना पड़ा है। यह सभी खाते खासकर छोटे व्यापारियों के हैं। पूरी बैंकिंग इंडस्ट्री में इस तरह के बंद खातों की संख्या लाखों में हो सकती है। ऐसे में इस तरह के खाताधारकों के सामने एक चुनौती भी है।

सोशल मीडिया पर दिक्कतों को साझा किया

बैंकों के इस कदम के बाद काफी सारे खाताधारकों ने सोशल मीडिया पर भी अपनी दिक्कतों को साझा किया है। एक ग्राहक ने निजी सेक्टर के एक बैंक के इस कदम पर वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण से सोशल मीडिया पर अपील की है। इस खाताधारक ने कहा है, "मैडम, हम आपकी मदद चाहते हैं। मेरा MSME (सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम) अकाउंट बैंक ने बंद कर दिया है। इसके लिए बैंक ने हमें कोई सूचना नहीं दी है।" इस खाताधारक ने कहा है कि उसके कुल 4 करेंट अकाउंट हैं, जिसमें से 3 खाते बंद कर दिया गए हैं।

HDFC बैंक में खाता बंद हुआ

इसी तरह एक दूसरे बैंक खाता धारक ने सोशल मीडिया पर कहा है कि उसे HDFC बैंक के अकाउंट को चलाने में दिक्कत आ रही है। उसका OD अकाउंट बैंक ऑफ महाराष्ट्र में है। इस तरह से कई सारे ग्राहकों ने सोशल मीडिया पर बैंकों की इस कार्रवाई को बताया है। रिजर्व बैंक ने कहा है कि जिनके पास OD की सुविधा है, उनका केवल एक ही करेंट अकाउंट होगा।

बैंकर्स ने कहा, पूरा समय दिया गया

बैंकर्स का कहना है कि जो भी ग्राहक ये बात कह रहे हैं, उनको इसके लिए पूरा समय दिया गया था। रिजर्व बैंक के नियमों के मुताबिक उन्हें समय दिया गया और साथ ही उनको नियम भी बताया गया है। उन्हें कई बार इस संबंध में पत्र भी भेजा गया है। पर काफी सारे ग्राहकों ने इस पर ध्यान नहीं दिया और वे अंतिम समय तक इंतजार करते रहे।

खबरें और भी हैं...