• Hindi News
  • Business
  • Relaxation In Lockdown Increased Traffic On National Highway By 35% In June, Toll Collection Also Increased By 24% To Rs 2600 Crore

रियायतों से पटरी पर लौट रही इकोनॉमी:लॉकडाउन में ढील से जून में नेशनल हाईवे पर ट्रैफिक 35% बढ़ी, टोल कलेक्शन भी 24% बढ़कर 2600 करोड़ रुपए हुआ

मुंबई4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना की दूसरी लहर से जगह-जगह लगे लॉकडाउन में सरकार अब ढील दे रही है। इससे आर्थिक गतिविधियां भी पटरी पर लौटने लगी है। नतीजतन, राष्ट्रीय राजमार्गों (नेशनल हाईवे) पर वाहनों की आवाजाही अप्रैल के लेवल पर पहुंच गई है।

वाहनों की आवाजाही 30-35% बढ़ी
रेटिंग एजेंसी क्रिसिल की एक रिपोर्ट के मुताबिक जून में नेशनल हाईवे पर वाहनों की आवाजाही 30-35% बढ़ गई है। यह बढ़कर अब अप्रैल 2021 के लेवल पर पहुंच गया है। इससे पहले देश में महामारी की वापसी से अप्रैल-मई के दौरान हाईवे पर ट्रैफिक पर बुरा असर पड़ा।

मई के पहले हफ्ते में जब कोरोना संक्रमितों की संख्या 4 लाख प्रतिदिन रही, उस दौरान हाईवे पर ट्रैफिक पिछले महीने की तुलना में 28% घट गई और 12 करोड़ वाहनों ने टोल भरा। हालांकि, जून में नेशनल हाईवे पर ट्रैफिक में सुधार देखने को मिली, क्योंकि संक्रमितों की संख्या 60 हजार प्रतिदिन हो गई और पाबंदियों में भी रियायत दी जा रही है।

जून में टोल कलेक्शन 24% तक बढ़ा
ट्रैफिक बढ़ने से टोल कलेक्शन का आंकड़ा भी सुधरा है। जून में 2400-2600 करोड़ रुपए का टोल कलेक्शन हुआ, जो मई से 18-24% ज्यादा है। मई के आंकड़े देखें तो यह 2125 करोड़ रुपए, अप्रैल में 2777 करोड़ रुपए और मार्च में 3087 करोड़ रुपए का कलेक्शन हुआ था।

कोरोना की दूसरी लहर का ही असर रहा कि महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, राजस्थान, तेलंगाना समेत दिल्ली और अन्य में लॉकडाउन लगाया गया। इससे अप्रैल में नेशनल हाईवे पर ट्रैफिक 15% घटकर 16 करोड़ हो गई, जो मार्च में 19 करोड़ रही थी।

रिपोर्ट में कहा गया है कि आर्थिक गतिविधियों में सुधार से फास्टैग का इस्तेमाल भी बढ़ा है। नतीजतन, ई-वे बिल जनरेशन भी 20 जून तक 3.28 करोड़ रहा, जो मई में इसी अवधि में 2.45 करोड़ था। जून के शुरुआती 20 में ई-वे बिल जनरेशन से 10.58 लाख करोड़ रुपए की आमदनी हुई, जो मई के समान दिनों में 8.79 लाख करोड़ रुपए थी।

खबरें और भी हैं...