• Hindi News
  • Business
  • Mukesh Ambani | Reliance Industries Limited (RIL) Shares Price Down 3 Percent Today

रिजल्ट का असर स्टॉक पर:दोगुना मुनाफे के बाद भी रिलायंस के नतीजे से खुश नहीं निवेशक, आज शेयर 3% टूटा

मुंबई6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कंपनी ने शुक्रवार को बाजार बंद होने के बाद रिजल्ट जारी किया था
  • इसके सभी सेगमेंट के कारोबार ने अच्छा प्रदर्शन किया था

देश की निजी क्षेत्र की सबसे बड़ी कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (RIL) के शेयरों में आज 3% की भारी गिरावट है। शुक्रवार को ही इसने चौथी तिमाही के रिजल्ट जारी किए थे। रिजल्ट बाजार बंद होने के बाद आया था। इसलिए आज उम्मीद थी कि शेयरों में अच्छा इजाफा दिखेगा, क्योंकि मुनाफे में दोगुना की बढ़त थी। पर आज इसके शेयरों में भारी गिरावट है।

आज सुबह 1963 रुपए पर खुला शेयर

आज सुबह RIL का शेयर 1,963 रुपए पर खुला था। शुक्रवार को यह 1,994 रुपए पर बंद हुआ था। आज यह दोपहर तक करीबन 3% टूट कर 1,943 रुपए पर पहुंच गया है। इससे ऐसा लगता है कि निवेशक इसके रिजल्ट से खुश नहीं हैं। कुछ ब्रोकरेज हाउस तो अब इस शेयर का लक्ष्य इससे भी नीचे रख रहे हैं।

चौथी तिमाही में 14,995 करोड़ का मुनाफा

रिलायंस के नतीजों की बात करें तो इसका चौथी तिमाही में शुद्ध फायदा 14,995 करोड़ रुपए था। जो जनवरी-मार्च 2020 में 6,438 करोड़ रुपए था। यानी उसकी तुलना में मुनाफे में दोगुना बढ़त रही है। इसकी आय की बात करें तो यह 1.54 लाख करोड़ रुपए रही है जो कि पिछले साल की तुलना में 11% अधिक है। इसकी टेलीकॉम से लेकर रिटेल और मीडिया सहित अन्य सभी बिजनेस ने अच्छा प्रदर्शन किया। पर इसके शेयरों पर दबाव रिजल्ट से पहले और रिजल्ट के बाद भी दिख रहा है।

रिजल्ट से पहले शेयरों पर दबाव दिखा था

रिजल्ट से पहले शुक्रवार को इसमें करीबन डेढ़ पर्सेंट की गिरावट आई थी। जबकि गुरुवार को भी इसमें गिरावट दिखी थी। कंपनी ने 7 रुपए प्रति शेयर का डिविडेंड जरूर घोषित किया, लेकिन यह भी निवेशकों को रास नहीं आया। शेयरों में गिरावट के वैसे तो कई कारण हैं। लेकिन सबसे बड़ा कारण यह है कि विश्लेषकों की उम्मीद पर कंपनी का प्रदर्शन नहीं रहा है।

जियो में हिस्सेदारी बेच कर कमाया था 1.52 लाख करोड़ रुपए

पिछले साल दरअसल RIL ने जियो टेलीकॉम में हिस्सेदारी बेचकर 1.52 लाख करोड़ रुपए जुटाए थे। जबकि रिटेल में हिस्सेदारी बेच कर इसने 47 हजार करोड़ रुपए जुटाया था। इस तरह से इतनी बड़ी रकम जुटाने के बाद भी कंपनी उन निवेशकों के लिए कुछ खास योजना नहीं बना पाई। हालांकि कंपनी के पास जो नकदी है और इसका जो कर्ज है, दोनों को अगर देखें तो कंपनी कर्जमुक्त है।

कर्जमुक्त और बेहतर प्रदर्शन वाली है कंपनी

कर्जमुक्त होने, 2 लाख करोड़ रुपए की रकम जुटाने और बेहतरीन प्रदर्शन करने के बावजूद इसका शेयर पिछले करीन 8-10 महीने से दबाव में प्रदर्शन कर रहा है। हालांकि इसी दौरान अगर देखा जाए तो बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज यानी BSE के सेंसेक्स ने मार्च तक बेहतरीन प्रदर्शन किया था। अप्रैल के महीने में सेंसेक्स में जरूर गिरावट आई, पर रिलायंस के शेयरों में उससे ज्यादा गिरावट पिछले 8-10 महीनों में देखी गई।

खबरें और भी हैं...