खुदरा महंगाई:खाने-पीने के सामान महंगे होने से महंगाई दर में बढ़ोतरी, जुलाई में 7% के करीब पहुंची

नई दिल्लीएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जून में खुदरा महंगाई की दर 6.23% और खाद्य महंगाई की दर 8.72% रही थी - Dainik Bhaskar
जून में खुदरा महंगाई की दर 6.23% और खाद्य महंगाई की दर 8.72% रही थी
  • खाद्य महंगाई की दर 9.62% पर पहुंची
  • दाल और उनसे बने उत्पाद 15% से ज्यादा महंगे हुए

खाने-पीने के सामान महंगे होने से जुलाई में खुदरा महंगाई की दर बढ़कर 6.93 फीसदी पर पहुंच गई। गुरुवार को जारी उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) के आंकड़े के मुताबिक पिछले महीने खाद्य वस्तुओं की महंगाई बढ़कर 9.62 फीसदी पर पहुंच गई। इससे पिछले महीने जून में खुदरा महंगाई की दर 6.23 फीसदी और खाद्य महंगाई की दर 8.72 फीसदी रही थी।

लगातार दूसरे माह खुदरा महंगाई आरबीआई के सुविधाजनक दायरे से ऊपर

खुदरा महंगाई की दर जुलाई में लगातार दूसरे महीने भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के सुविधाजनक दायरे से ऊपर रही। सरकार ने आरबीआई को खुदरा महंगाई की दर 2 फीसदी घट-बढ़ की गुंजाइश के साथ औसत 4 फीसदी पर बनाए रखने की जिम्मेदारी दी है। आरबीआई दोमाही मौद्रिक नीति समीक्षा में मुख्य ब्याज दर तय करते समय यह ध्यान में रखता है कि खुदरा महंगाई दर निर्धारित दायरे में रहे।

सबसे ज्यादा महंगाई असम में 11.24%

राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के बीच सबसे ज्यादा खुदरा महंगाई जुलाई में असम में 11.24 फीसदी रही। इसके बाद पश्चिम बंगाल में 9.65 फीसदी खुदरा महंगाई रही। सबसे कम खुदरा महंगाई दिल्ली में 3.60 फीसदी और हिमाचल प्रदेश में 3.92 फीसदी दर्ज की गई।

मांस और मछली सबसे ज्यादा 18.81% महंगे हुए

जुलाई में सबसे ज्यादा महंगाई मांस और मछली में 18.81 फीसदी दर्ज की गई। दालों और उनसे बने उत्पादों की कीमतें 15.92 फीसदी बढ़ीं। ऑयल और फैट 12.41 फीसदी और मसाले 13.27 फीसदी महंगे हुए। सब्जियों की महंगाई दर जुलाई में 11.29 फीसदी रही।

अगस्त के पहले कारोबारी सप्ताह में विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों ने भारत में 8,327 करोड़ रुपए का शुद्ध निवेश किया

खरीफ फसलों का रकबा 10% बढ़कर 966 लाख हेक्टेयर तक पहुंचा, सीजन खत्म होने में अभी दो महीने और बाकी हैं

आरबीआई की रिपोर्ट:उपभोक्ताओं का भरोसा जुलाई में गिरकर अब तक के रिकॉर्ड निचले स्तर 53.8 पर आया, अब अगले साल ही कुछ बेहतर होने की उम्मीद

देश के सर्विस सेक्टर में लगातार 5वें महीने मंदी का माहौल, जुलाई का सर्विस पीएमआई 34.2 पर रहा

औद्योगिक क्षेत्र में मंदी और गहराई; जुलाई में मैन्यूफैक्चरिंग पीएमआई और घट गया, अब 46 पर आ गया

खबरें और भी हैं...