रिलायंस के दूसरी तिमाही के नतीजे:कंसोलिडेटेड प्रॉफिट 46% बढ़कर 15,479 करोड़ रुपए पर पहुंचा, O2C रेवेन्यू 1.2 लाख करोड़ हुआ

नई दिल्लीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

रिलायंस इंडस्ट्रीज ने सितंबर में समाप्त तिमाही (FY22Q2) के नतीजे शुक्रवार शाम घोषित किए। कंपनी ने इस तिमाही में 15,479 करोड़ रुपए का रिकॉर्ड कंसोलिडेटेड प्रॉफिट दर्ज किया है। ये एक साल पहले की समान अवधि की तुलना में 46% की ग्रोथ है। FY21Q2 में प्रॉफिट 10,602 करोड़ रुपए रहा था।

रेवेन्यू की बात करें तो रिलायंस का FY22Q2 में कंसोलिडेटेड ग्रॉस रेवेन्यू 191,532 करोड़ रुपए रहा। एक साल की पहले समान अवधि में यह 128,385 करोड़ रुपए था। ये 49.2% की ग्रोथ है। वहीं कंपनी ने 30,283 करोड़ रुपए का रिकॉर्ड तिमाही कंसोलिडेटेड ऑपरेटिंग प्रॉफिट दर्ज किया, जो एक साल पहले की तुलना में 30% ज्यादा है।

FY22Q2 में रिलायंस के अलग-अलग बिजनेस का प्रदर्शन:

ऑयल-टू-केमिकल्स (O2C)
रिफाइनिंग और पेट्रोकेमिकल्स प्रोडक्ट की ग्लोबल डिमांड बढ़ने से इस तिमाही में सेगमेंट रेवेन्यू 58.1% बढ़कर 120,475 करोड़ रुपए हो गए। FY21Q2 में यह 76,184 करोड़ रुपए थे। वहीं वर्टिकल ऑपरेटिंग प्रॉफिट 43.9% बढ़कर 12,720 करोड़ रुपए पर पहुंच गया। एक साल पहले FY21Q2 में यह 8841 करोड़ रुपए था।

रिलायंस रिटेल
सितंबर में समाप्त तिमाही में रिलायंस रिटेल के ग्रॉस रेवेन्यू 10.5% बढ़कर 45,426 करोड़ रुपए हो गए। FY21Q2 में यह 41,100 करोड़ रुपए थे। वहीं ऑपरेशन से रेवेन्यू 9.2% बढ़कर 39,926 करोड़ रुपए हो गए।

जियो प्लेटफॉर्म
सितंबर में समाप्त तिमाही में जियो प्लेटफॉर्म के ग्रॉस रेवेन्यू पिछले साल की समान अवधि की तुलना में बढ़कर 23,222 करोड़ रुपए हो गए। FY21Q2 में यह 21,708 करोड़ रुपए थे। वहीं ऑपरेशन से रेवेन्यू 18,496 करोड़ रुपए से बढ़कर 19,777 करोड़ रुपए हो गए।

ऑयल एंड गैस
तिमाही के दौरान उत्पादन में 23% की बढ़ोतरी के कारण सेगमेंट रेवेन्यू 363.1% बढ़कर 1,644 करोड़ रुपए हो गए। FY21Q2 में यह 355 करोड़ रुपए थे। इस तिमाही में सेगमेंट ने 1,071 करोड़ रुपए का ऑपरेटिंग प्रॉफिट रिपोर्ट किया। एक साल पहले की तिमाही में 194 करोड़ रुपए का ऑपरेटिंग लॉस रिपोर्ट किया गया था।

मीडिया बिजनेस
एडवरटाइजमेंट सेल्स में सुधार के कारण इस तिमाही में रिलायंस के मीडिया वर्टिकल की सेल्स 31% बढ़कर 1,387 करोड़ रुपए हो गई। एक साल पहले की समान अवधि में यह 1,061 करोड़ रुपए थी। मीडिया बिजनेस का ऑपरेटिंग प्रॉफिट 52% बढ़कर 253 करोड़ रुपए हो गया।

खबरें और भी हैं...