पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Business
  • Ril Result Reliance Industries Reported Over 40 Pc Jump In Net Profit Quarterly And Over 25 Pc Yoy

देश की सबसे बड़ी कंपनी के नतीजे:दिसंबर तिमाही में रिलायंस का प्रॉफिट 12.5% बढ़ा, कंपनी ने 9 महीने में 50 हजार कर्मचारी रखे

नई दिल्ली5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कंपनी की कुल आय तिमाही आधार पर 6.64% बढ़ी, लेकिन सालाना आधाार पर यह 19.94% घट गई - Dainik Bhaskar
कंपनी की कुल आय तिमाही आधार पर 6.64% बढ़ी, लेकिन सालाना आधाार पर यह 19.94% घट गई
  • समूह के कुल कारोबार में कंज्यूमर बिजनेस का हिस्सा आधा हुआ, एक साल पहले 37% था

देश के सबसे धनी कारोबारी मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज को अक्टूबर से दिसंबर 2020 में 13,101 करोड़ रुपए का प्रॉफिट हुआ है। यह एक साल पहले के मुकाबले 12.5% ज्यादा है। खास बात यह है कि इस दौरान रेवेन्यू करीब 20% गिरने के बावजूद प्रॉफिट में यह बढ़ोतरी हुई है।

दिसंबर तिमाही में रिलायंस का रेवेन्यू 1,28,450 करोड़ रुपए रहा। नतीजों के साथ जारी बयान में चेयरमैन मुकेश अंबानी ने कहा कि पिछले साल अप्रैल से दिसंबर तक कंपनी ने 50,000 नए कर्मचारी रखे हैं। नतीजों से पहले शुक्रवार को रिलायंस के शेयरों में करीब 2% की गिरावट आई।

जियो का प्रॉफिट तिमाही आधार पर 15% बढ़ा

कंपनी के मोबाइल कारोबार की होल्डिंग कंपनी जियो प्लेटफॉर्म (JPL) का नेट प्रॉफिट तिमाही आधार पर 15.5% बढ़ा है। यह 3,489 करोड़ रुपए रहा, जो सितंबर तिमाही में 3,020 करोड़ रुपए था। हर ग्राहक से मिलने वाला औसत रेवेन्यू (ARPU) सालभर में 18% बढ़ा है। यह 151 रुपए पर पहुंच गया, जो सालभर पहले 128 रुपए था।

31 दिसंबर 2020 को जियो के ग्राहकों की कुल संख्या बढ़कर 41.08 करोड़ हो गई। पिछली तिमाही में कंपनी ने 2.51 करोड़ नए ग्राहक जोड़े। वैसे प्रति यूजर रेवेन्यू के मामले में सितंबर तिमाही तक एयरटेल, जियो से आगे रही है।

जियो और एयरटेल के ARPU में लगातार बढ़ोतरी का ट्रेंड

कंपनी

दिसंबर

2019

मार्च

2020

जून

2020

सितंबर

2020

दिसंबर

2020

जियो128130.6140.3145151
भारती एयरटेल135154157162आंकड़े नहीं आए
वोडाफोन आइडिया109121114119आंकड़े नहीं आए

(नोट: ARPU के सभी आंकड़े रुपए में)

कोरोना का असर, रिटेल बिजनेस का रेवेन्यू 9.7% घटा

कोरोना का असर रिलायंस के रिटेल बिजनेस पर दिखा है। इसका रेवेन्यू सितंबर तिमाही की तुलना में 9.7% घट कर 33,018 करोड़ रुपए रह गया है। लेकिन ऑपरेशनल खर्च घटने से ऑपरेटिंग प्रॉफिट 54% बढ़कर 3,087 करोड़ हो गया है। कंपनी के 96% स्टोर खुल गए हैं, लेकिन उनमें से आधे ही पूरी तरह ऑपरेशनल हो पाए हैं। छोटे शहरों के स्टोर में रिकवरी ज्यादा तेज है।

रेवेन्यू में टेलीकॉम और रिटेल कारोबार का हिस्सा बढ़ा

हाल के वर्षों में मुकेश अंबानी ने रिटेल बिजनेस पर ज्यादा फोकस किया है। इसका नतीजा भी दिखने लगा है। रिलायंस इंडस्ट्रीज की आय में टेलीकॉम और रिटेल जैसे कंज्यूमर कारोबार का हिस्सा बढ़कर 51% हो गया है। यह एक साल पहले 37% था।

कंपनी ने रिफाइनिंग मार्जिन घोषित नहीं किया

कंपनी ने ऑयल रिफाइनिंग और पेट्र्रोकेमिकल कारोबार की आय को अलग-अलग नहीं दिखाकर इकट्‌ठा एक कारोबार के रूप में दिखाया है। रिफाइनिंग कारोबार को अलग से नहीं दिखाने के कारण कंपनी ने रिफाइनिंग मार्जिन की घोषणा नहीं की। ईस्टर्न ऑफशोर KG-D6 ब्लॉक की नई डिस्कवरी से गैस प्रॉडक्शन शुरू होने के कारण कंपनी को इस सेगमेंट में कई साल बाद प्री-टैक्स प्रॉफिट हुआ है। इस सेगमेंट का EBITDA 4 करोड़ रुपए रहा, जबकि सितंबर तिमाही में इस सेगमेंट ने 194 करोड़ रुपए का घाटा दर्ज किया था