• Hindi News
  • Business
  • Salary Increments And Coronavirus: 59 Percent Of India Companies Intend To Give Salary Increments In 2021

कोरोना के बीच पॉजिटिव खबर:इस साल 10% तक बढ़ सकती है आपकी सैलरी, फ्रेशर्स को मिलेंगे नौकरी के सबसे ज्यादा मौके

मुंबई7 महीने पहले

कोरोना की दूसरी लहर के बीच नौकरीपेशा लोगों के लिए राहत की खबर है। इस बार आपकी सैलरी बढ़ सकती है। स्टाफिंग कंपनी जीनियस कंसल्टेंट्स के एक सर्वे में कहा गया है कि कंपनियां इंक्रीमेंट देने के मूड में हैं। यह 5-10% तक हो सकता है।

जीनियस कंसल्टेंट्स के सर्वे में देशभर की 1200 कंपनियां शामिल की गई। इनमें से 59% कंपनियों ने कहा कि वे कर्मचारियों की सैलरी बढ़ाने के मूड में हैं। 20% ने कहा कि सैलरी बढ़ाएंगे, लेकिन यह 5% से भी कम होगा। जबकि 21% कंपनियों ने कहा कि वे सैलरी नहीं बढ़ाएंगी।

फ्रेशर्स को मौके मिलेंगे
सर्वे में शामिल 43% कंपनियां ने कहा कि वे फ्रेशर्स को नौकरी देंगी। वहीं 41% कंपनियों की योजना रिप्लेसमेंट हायरिंग यानी अनुभवी कर्मचारियों को नौकरी देने की है। 11% कंपनियां इस बार नौकरी देने की स्थिति में नहीं हैं। एक और खास बात सामने आई है कि साउथ इंडिया बेस्ड कंपनियां नई हायरिंग में सबसे आगे रहेंगी, जिनमें बेंगलुरु, चेन्नई जैसे शहरों की कंपनियां शामिल हैं। इसके बाद वेस्टर्न इंडिया यानी मुंबई जैसे शहरों की कंपनियां ज्यादा नौकरी देंगी।

इस सर्वे में HR सॉल्युशन, IT, ITES, BPO, बैंकिंग एंड फाइनेंस, कंस्ट्रक्शन और इंजीनियरिंग, एजुकेशन, लॉजिस्टिक हॉस्पिटेलिटी, मीडिया, फार्मा, मेडिकल, पावर एंड एनर्जी और रियल एस्टेट जैसे सेक्टर की कंपनियां शामिल की गई थीं।

सर्वे करने वाली कंपनी जीनियस कंसल्टेंट्स ने बताया कि हायरिंग के लिहाज से 2021 उम्मीदों भरा है। भारतीय कंपनियों की हालत तेजी से सुधर रही है, जो पिछले साल महामारी के चलते बिगड़ गई थी। कंपनियां अब मार्केट डिमांड के हिसाब से सैलरी पैकेज ऑफर कर रहीं हैं।

कोरोना की दूसरी लहर से बढ़ी चिंता
दूसरी ओर बढ़ते कोरोना संक्रमण से देश एक बार फिर लॉकडाउन की ओर बढ़ रहा है। अगर इसी तरह सख्ती बढ़ती है तो इकोनॉमिक एक्टिविटिज पर बुरा असर पड़ेगा। ऐसे में नौकरियों में एक बार फिर छंटनी की आशंका है। देश में बेरोजगारी की बात करें तो 11 अप्रैल को खत्म हुए हफ्ते में बेरोजगारी दर 8.6% पर पहुंच गई है, जबकि दो हफ्ते पहले यह 6.7% थी।

खबरें और भी हैं...