पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सस्ता नहीं, अब महंगा होगा कर्ज:बैंकों ने ज्यादा ब्याज पर RBI के पास 2 लाख करोड़ जमा कराए, यह लोन महंगा होने का संकेत

नई दिल्ली3 महीने पहले

जनवरी के पहले और दूसरे हफ्ते में SBI समेत देश के कई बड़े बैंकों ने FD पर ब्याज दरें बढ़ाने की घोषणा की थी। इसे इस बात का संकेत माना जा रहा था कि सस्ते कर्ज का दौर खत्म हो गया, और लोन पर भी ब्याज दरें बढ़ने वाली हैं। अब इसकी पुष्टि भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के एक कदम से भी हो गई है। शुक्रवार को RBI ने बैंकों का 2 लाख करोड़ रुपए एक्स्ट्रा कैश अपने पास जमा कर लिया, वह भी ज्यादा ब्याज पर।

RBI ने रिवर्स रेपो से ज्यादा ब्याज पर बैंकों से पैसा लिया
RBI ने 3.55% तक ब्याज पर यह पैसा जमा लिया है। ब्याज की यह दर रिवर्स रेपो रेट से ज्यादा है। बैंकों के पास जब भी एक्स्ट्रा कैश होता है, तो वे उसे RBI के पास जमा करते हैं। इसे रिवर्स रेपो कहा जाता है। RBI ने रिवर्स रेपो दर 3.35% तय कर रखी है। लेकिन शुक्रवार को 3.55% पर एक्स्ट्रा कैश लेना यह बताता है कि बैंकिंग सिस्टम में बढ़ी लिक्विडिटी यानी कैश को वह कम करना चाहता है।
लिक्विडिटी कम होने पर बैंकों के लिए फंड की लागत बढ़ जाती है। यानी उन्हें ज्यादा ब्याज पर पैसा मिलता है। इसलिए जब वे कर्ज देते हैं तो उस पर भी ज्यादा ब्याज लेते हैं। हालांकि लोन पर ब्याज बढ़ने में थोड़ा वक्त लग सकता है।

बैंक कर्ज की गति धीमी, सिस्टम में 5.6 लाख करोड़ एक्स्ट्रा कैश
माना जा रहा है कि बैंकिंग सिस्टम में अभी करीब 5.6 लाख करोड़ रुपए एक्स्ट्रा कैश है। आर्थिक गतिविधियां अभी तक कोरोना से पहले के स्तर पर नहीं आई हैं। इसलिए बैंक ज्यादा लोन नहीं दे पा रहे हैं। RBI के अनुसार बैंकों का कर्ज 5-6% की धीमी गति से बढ़ रहा है। यही कारण है कि उनके पास अतिरिक्त कैश जमा हो गया है। शुक्रवार को बैंकों और फाइनेंशियल इंस्टीट्यूशंस ने 3 लाख करोड़ रुपए रिवर्स रेपो में जमा करने की बिड की थी। RBI ने 2 लाख करोड़ की बिड मंजूर की।

इकोनॉमी में तेजी लाने के लिए RBI ने ब्याज घटाया था
लॉकडाउन के कारण आर्थिक गतिविधियां धीमी पड़ीं, तो उसमें तेजी लाने के लिए RBI ने ब्याज दरों में कटौती की थी। मकसद यह था कि लोग सस्ता कर्ज लेकर खरीदारी करें या इंडस्ट्री उसे निवेश करे। विशेषज्ञों के अनुसार, रिजर्व बैंक का शुक्रवार का यह कदम संकेत है कि आने वाले दिनों में लोन पर ब्याज की दरें बढ़ सकती हैं।

लिक्विडिटी कम करने के लिए CRR भी बढ़ाया जा सकता है
विशेषज्ञों का यह भी मानना है कि RBI कैश रिजर्व रेशियो (CRR) को भी फिर से 4% पर ला सकता है। बैंकों को अपने पास जमा पैसे का एक हिस्सा RBI के पास रखना पड़ता है। इसे CRR कहते हैं। करीब एक साल पहले RBI ने इसे 4% से घटाकर 3% किया था। CRR 1% बढ़ा तो उससे बैंकिंग सिस्टम में एक्स्ट्रा कैश 1.5 लाख करोड़ रुपए कम हो जाएगा।

आने वाले दिनों में FD पर भी ब्याज दरें बढ़ सकती हैं
SBI, पंजाब नेशनल बैंक, एक्सिस बैंक समेत कई बैंकों ने जनवरी में FD पर ब्याज दरें बढ़ाई हैं। हालांकि अभी दरें ज्यादा नहीं, 0.1% फीसदी के आसपास ही बढ़ी हैं। बैंक ऑफ बड़ौदा के चीफ इकोनॉमिस्ट समीर नारंग के अनुसार एक साल तक की FD पर ब्याज दरें बढ़ी हैं, और आगे भी बढ़ सकती हैं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज मार्केटिंग अथवा मीडिया से संबंधित कोई महत्वपूर्ण जानकारी मिल सकती है, जो आपकी आर्थिक स्थिति के लिए बहुत उपयोगी साबित होगी। किसी भी फोन कॉल को नजरअंदाज ना करें। आपके अधिकतर काम सहज और आरामद...

    और पढ़ें