4% ब्याज के साथ 31 करोड़ लौटाने का भी आदेश:किर्लोस्कर फैमिली के 5 सदस्यों पर सेबी ने शेयर बाजार में कारोबार पर रोक लगाई

मुंबईएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सेबी ने किर्लोस्कर परिवार की जांच एक मार्च 2010 से 30 अप्रैल 2011 के बीच की थी। सेबी ने कहा कि 31 करोड़ रुपए की जो राशि लौटानी है, वह गलत तरीके से फायदा कमाया गया है - Dainik Bhaskar
सेबी ने किर्लोस्कर परिवार की जांच एक मार्च 2010 से 30 अप्रैल 2011 के बीच की थी। सेबी ने कहा कि 31 करोड़ रुपए की जो राशि लौटानी है, वह गलत तरीके से फायदा कमाया गया है
  • किर्लोस्कर परिवार ने केबीएल के शेयरों में तब कारोबार किया, जब उसमें प्रमोटर्स कारोबार नहीं कर सकते थे
  • ब्याज के साथ लौटाई जाने वाली रकम के लिए 6 अक्टूबर से 45 दिन माना जाएगा

पूंजी बाजार नियामक सेबी ने इनसाइडर ट्रेडिंग के मामले में किर्लोस्कर परिवार के 5 सदस्यों पर शेयर बाजार में कारोबार करने पर प्रतिबंध लगा दिया है। यह प्रतिबंध 6 महीने के लिए सभी सदस्यों पर लगाया गया है। सेबी ने इस मामले में एक सर्कुलर जारी कर जानकारी दी।

कंपनी के प्रमोटर्स और पत्नी भी शामिल

सेबी ने कहा कि जिन लोगों पर प्रतिबंध लगाया गया है उसमें किर्लोस्कर इंडस्ट्रीज के प्रमोटर अतुल किर्लोस्कर, उनकी पत्नी आरती, राहुल किर्लोस्कर और उनकी पत्नी अल्पना और प्रमोटर गौतम कुलकर्णी की पत्नी ज्योत्सना कुलकर्णी का समावेश है। सेबी ने ऑर्डर में कहा है कि इसके साथ ही 31 करोड़ रुपए 4 पर्सेंट ब्याज के साथ 45 दिनों में लौटाया जाए। यह ऑर्डर 6 अक्टूबर से लागू माना जाएगा।

2010 में शुरू हुई थी जांच

सेबी ने किर्लोस्कर परिवार की जांच एक मार्च 2010 से 30 अप्रैल 2011 के बीच की थी। सेबी ने कहा कि 31 करोड़ रुपए की जो राशि लौटानी है, वह गलत तरीके से फायदा कमाया गया है। सेबी ने तमाम सेक्शन के तहत यह ऑर्डर पास किया है।

प्रतिबंधित समय में किया कारोबार

सेबी की जांच से पता चला है कि किर्लोस्कर ब्रदर्स लिमिटेड (केबीएल) के प्रमोटर्स और डायरेक्टर्स ने केबीएल के शेयर में उस समय कारोबार किया, जब यह अनपब्लिश्ड प्राइस सेंसिटिव इंफॉर्मेशन के तहत समय था। इस दौरान शेयरों में प्रमोटर्स कारोबार नहीं कर सकते हैं।

दूसरे आरोपी पर 42.77 लाख रुपए की पेनाल्टी

सेबी ने पाया कि इसी तरह की इनसाइडर ट्रेडिंग संजय किर्लोस्कर, उनकी पत्नी और कराड इनवेस्टमेंट ने भी की। उन पर 42.77 लाख रुपए की पेनाल्टी लगाई गई है। उन पर भी तीन महीने तक शेयर बाजार में कारोबार करने पर प्रतिबंध लगाया गया है।

किर्लोस्कर परिवार में पहले से ही झगड़ा है

बता दें कि किर्लोस्कर परिवार में पहले से ही झगड़ा चल रही है। अतुल और राहुल ने संजय किर्लोस्कर को नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (एनसीएलटी) में खींचा था। आरोप लगाया था कि केबीएल में मिस मैनेजमेंट हुआ है। परिवार के बीच फैमिली ट्रेडमार्क को भी लेकर विवाद है। सेबी को इस मामले में ढेर सारी शिकायतें मिली थीं। इसी पर सेबी ने केबीएल की जांच की थी।

खबरें और भी हैं...