पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Business
  • Sebi Fine In Vakrangee Share, Vakrangee Shares, Sebi Fine, Vakrangee Share Price

वक्रांगी के शेयरों में खेल:65 लोगों और कंपनियों पर 1.75 करोड़ रुपए का जुर्माना, सेबी का बड़ा ऑर्डर

मुंबई2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सेबी ने आज 3 अलग-अलग ऑर्डर जारी किया है। कुल 126 पेज के ऑर्डर में सेबी ने कहा कि ब्याज के साथ जुर्माने की रकम देनी होगी - Dainik Bhaskar
सेबी ने आज 3 अलग-अलग ऑर्डर जारी किया है। कुल 126 पेज के ऑर्डर में सेबी ने कहा कि ब्याज के साथ जुर्माने की रकम देनी होगी
  • सेबी ने आज 3 अलग-अलग ऑर्डर जारी किया है। कुल 126 पेज का ऑर्डर है
  • 25 हजार महीने की सैलरी और शेयरों की कीमत 200 करोड़ रुपए

वक्रांगी के शेयरों में जुगाड़ कर कीमतों को बढ़ाने और घटाने के मामले में रेगुलेटर सेबी ने बड़ा फैसला किया है। आज उसने कुल 65 लोगों और कंपनियों पर 1.75 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया है। यह जुर्माना 45 दिनों के अंदर भरना होगा।

3 अलग-अलग ऑर्डर जारी किया

सेबी ने आज 3 अलग-अलग ऑर्डर जारी किया है। कुल 126 पेज के ऑर्डर में सेबी ने कहा कि ब्याज के साथ जुर्माने की रकम देनी होगी। इसमें से पहले ऑर्डर में 16 लोगों और कंपनियों पर एक साथ या अलग-अलग 50 लाख रुपए, दूसरे ऑर्डर में 27 लोगों और कंपनियों पर एक साथ या अलग-अलग 75 लाख रुपए और तीसरे ऑर्डर में 22 लोगों और कंपनियों पर 50 लाख रुपए का जुर्माना लगाया गया है।

1 जनवरी 2015 से सितंबर 2015 तक के कारोबार की गई जांच

सेबी के आदेश के मुताबिक, उसने पहले वक्रांगी के शेयरों की 1 जनवरी 2015 से 30 सितंबर 2015 के बीच जांच की। इसमें कुल 32 लोगों और कंपनियों की जांच की गई। जांच में सेबी ने पाया कि ये सभी लोग आपस में एक दूसरे से जुड़े थे। साथ ही प्रमोटर्स से भी जुड़े थे। 34 लोगों में से 2 लोग प्रमोटर्स थे। इसमें अधिकतर लोग एक ही कंपनी में डायरेक्टर थे या फिर एक ही पते को सबमिट किया था। इसी तरह इनके ईमेल आईडी भी एक ही थे। मोबाइल फोन नंबर भी एक ही थे।

संदिग्ध कंपनियों ने शेयर खरीदे और बेचे

सेबी ने जांच में पाया की संदिग्ध कंपनियों ने BSE पर 33.94% शेयर वक्रांगी लिमिटेड के खरीदे थे और 42.82% बेच दिए। इसी तरह से NSE पर भी इन लोगों ने खरीद फरोख्त की। इसमें यह पाया गया कि 32 में से 26 कंपनियों ने 95% शेयर खरीदी थी। इन लोगों ने 116 से लेकर 126 रुपए के औसत मूल्य पर शेयरों की खरीदी की। इन 34 में से 24 कंपनियां ऐसी रहीं जिन्होंने गुमराह करने वाले काम इस शेयर में किए।

मार्च 2019 में भेजा नोटिस

सेबी ने मार्च 2019 में इन लोगों को नोटिस भेजा। इसी तरह दूसरे ऑर्डर में इसने 4 सितंबर 2015 से 30 जून 2016 तक जांच की थी। इसमें भी करीबन वही कंपनियां थीं, जिन्होंने पहले कारोबार किया था। इसमें कुल 110 कंपनियां या लोग थे। जांच के दौरान इसमें 73 कंपनियां एक दूसरे से जुड़ी हुई थीं। इसमें हेम सिक्योरिटीज, डिसेंट फाइनेंशियल, पीपी कैपिटल, हेम शेयर ब्रोकर्स, एवरग्रीन इंफोटेक, हेम इंश्योरेंस ब्रोकर आदि थीं। इसमें भी सेबी ने पाया कि सब एक दूसरे से जुड़े हुए थे और पहले ऑर्डर की तरह काम कर रहे थे।

वक्रांगी का शेयर 131 पर्सेंट बढ़ा

सेबी ने पाया कि जांच के दौरान वक्रांगी के शेयरों में जबरदस्त तेजी और गिरावट आई। उदाहरण के तौर पर 1 सितंबर 2016 से 15 जून 2017 तक इसका मूल्य 196 से बढ़ कर 450 रुपए तक चला गया। यानी 131% की ग्रोथ रही। इसमें जो ज्यादातर लोग कारोबार कर रहे थे, वे सभी मुंबई के अंधेरी इलाके के थे। सभी एक ही इलाके में थे और एक दूसरे से जुड़े हुए थे। ये सभी एक ही कंपनी में डायरेक्टर थे।

25 हजार की सैलरी, 200 करोड़ रुपए का शेयर

यही नहीं, विनोद कुमार बोहरा कई कंपनियों में डायरेक्टर था जिसमें से एक कौतिक प्रॉपर्टीज भी थी। उसके केवाईसी में 25 हजार रुपए महीने की सैलरी का जिक्र था। लेकिन उसके पास जो शेयर थे, उसकी वैल्यूएशन 200 करोड़ रुपए की थी। सेबी ने इसी आधार पर सोमवार को ऑर्डर जारी किया और 1.75 करोड़ रुपए की पेनाल्टी भरने का आदेश दिया।