• Hindi News
  • Business
  • Sitharaman Has Given Instructions To CPSU To Pay The Dues Of Vendors And Contractors

बजट का पैसा खर्च करें:सीतारमण ने CPSU को दिए हैं वेंडरों और कॉन्ट्रैक्टरों का बकाया चुकाने के निर्देश

बेंगलुरु10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सेंट्रल CPSU को बजट में कैपिटल एक्सेंडिचर मद में दी गई रकम भी जल्द से जल्द खर्च करने के लिए भी कहा है
  • इकनॉमी को भारतीयों के अदम्य साहस, हर हाल में काम करते रहने की आदत का फायदा मिलने की बात कही

वित्त मंत्री सीतारमण ने BSNL सहित पब्लिक सेक्टर की सभी केंद्रीय कंपनियों (CPSU) को वेंडरों और कॉन्ट्रैक्टरों का बकाया चुकाने का निर्देश दिया है। उन्होंने सेंट्रल PSU से यह भी कहा है कि बजट में उनको कैपिटल एक्सेंडिचर मद में जो रकम खर्च करने के लिए दी गई है, उसको जल्द से जल्द खर्च करें। उन्होंने ये बातें बैंगलोर चैंबर ऑफ इंडस्ट्रीज एंड कॉमर्स (BCIC) के साथ वीडियो के जरिए हुए संवाद में कहीं।

बकाया भुगतान नहीं होने की शिकायत

निर्मला सीतारमण ने BCIC के साथ हुए वीडियो संवाद में उद्यमियों की तरफ से पूछे गए कुछ सवालों के जवाब भी दिए। टेलीकॉम इक्विपमेंट मुहैया कराने वाली एक कंपनी के प्रतिनिधि ने शिकायत करते हुए कहा था कि BSNL बेहद छोटी कंपनियों यानी SME के बकाए का भुगतान नहीं कर रही है। उन्होंने कहा था कि यह स्थिति तब है जब कोविड-19 के चलते SME सेक्टर वित्तीय तंगी में फंसा हुआ है।

सेंट्रल PSU को दिए हैं बकाया चुकाने के निर्देश

इस पर वित्त मंत्री ने कहा, ‘हम सभी विभागों को बकाया भुगतान करने के लिए कहते रहते हैं। असल में मैंने यह सुनिश्चित करने के लिए पिछले तीन महीनों में सभी सेंट्रल PSU के साथ पांच बैठक की हैं कि वे मुकदमे में फंसे बकाया मामलों को छोड़ बाकी का भुगतान कर दें। बात सिर्फ बकाए तक सीमित नहीं है, मैं तो उनको बजट में पूंजी निवेश के लिए दी गई रकम को भी खर्च करने के लिए बढ़ावा दे रही हूँ। बकाया रकम के भुगतान में देरी को लेकर जताई जा रही चिंता को समझती हूँ।’

उद्यमियों का साहस है सबसे बड़़ा सपोर्ट

निर्मला सीतारमण ने कहा कि कोविड-19 की छाया दूर होने पर एक दो नहीं कई वजहों से भारतीय अर्थव्यवस्था की रफ्तार को बढ़ावा मिलेगा। उन्होंने यह भी कहा कि इसका सबसे बड़ा फैक्टर भारतीयों का अदम्य साहस, गिरकर उठ खड़े होने और हर हाल में काम करते रहने की आदत है। वित्त मंत्री ने कहा कि उनका सबसे बड़़ा सपोर्ट भारतीय उद्यमियों का साहस और प्रधानमंत्री का पूर्ण समर्थन है।