पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Business
  • SMS TRAI Defaulters List Update; Telecom Regulatory Authority Of India On (SBI), HDFC Bank, ICICI Bank

ग्राहक परेशान, बैंक नाकाम:बेवजह के SMS रोकने के लिए बैंकों ने नहीं उठाए जरूरी कदम, ट्राई ने जारी की 40 बैंकों की लिस्ट

मुंबई3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

टेलीकॉम रेगुलेटर अथॉरिटी ऑफ इंडिया (ट्राई) ने 40 ऐसे बैंकों की लिस्ट बनाई है जो ग्राहकों को परेशान करने वाले SMS को रोकने में असफल रहे हैं। इन बैंकों में दिग्गज स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) HDFC बैंक, ICICI बैंक शामिल हैं।

ट्राई ने कहा कि ग्राहकों को परेशान करने वाले मैसेज से बचाने के लिए इन बैंकों ने कुछ खास कदम नहीं उठाए हैं। इसके लिए जारी गाइडलाइन का पालन करने में फेल हो गए हैं।

35 कंपनियों को लिस्ट में शामिल किया गया

ट्राई ने कहा कि सबसे बड़े SMS सेवा देने वाली कंपनियों जैसे कि कैरिक्स, कालेयरा, गपशप, रूट मोबाइल, वैल्यूफर्स्ट तथा 35 अन्य ऐसी कंपनियां हैं जिन्हें इस लिस्ट में शामिल किया गया है। इन पर आरोप है कि इन्हें जरूरत से ज्यादा समय देने के बाद भी इन्होंने SMS कंटेंट को कंट्रोल करने के लिए कुछ खास कदम नहीं उठाए।

बड़े बैंक भी लिस्ट में शामिल

ट्राई ने कहा कि उन्हें ऐसा पता चला है की प्रिंसिपल एंटिटी जिनमें बड़े बैंक SBI, HDFC बैंक, पंजाब नेशनल बैंक (PNB),एक्सिस बैंक शामिल हैं। इन सभी बैंकों ने कंटेंट टेम्पलेट आईडी जैसे आवश्यक पैरामीटर की ट्रांसमीटिंग नहीं कर रहे हैं। खासकर तब जब कंटेंट टेम्पलेट रजिस्टर्ड करा दिया गया है। ट्राई ने कहा कि यह सभी ऐसी कमियां है जिन पर बैंक, टेलीमार्केट वाले जानबूझकर ध्यान नहीं दे रहे हैं।

SMS फिल्टर न करने पर ब्लॉक का आदेश

ट्राई ने टेलीकॉम कंपनियों को आदेश दिया है कि वह 1 अप्रैल से SMS को फिल्टर करने और पालन न करने वाले ट्रैफिक को ब्लॉक करें। क्योंकि ग्राहकों को नियामक के नियमों के लाभों से वंचित नहीं किया जा सकता है। इसने बैंकिंग रेगुलेटर भारतीय रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI), पूंजी बाजार रेगुलेटर सेबी जैसे अन्य रेगुलेटर्स से भी अनुरोध किया है कि वे बीमा रेगुलेटर IRDAI, केंद्र और राज्य सरकार के विभाग के नियमों का पालन करने लिए अपने अधिकार क्षेत्र में आने वाली संस्थाओं पर दबाव डालें।

SMS भेजने के लिए जरूरी है रजिस्ट्रेशन

टेलीकॉम कम्युनिकेशन कस्टमर फ्रेंड्स रेगुलेशन (TCCFR) 2018 में कमर्शियल बल्क एसएमएस भेजने वाली सभी कंपनियों को टेल्कोस के ब्लॉक चेन आधारित प्लेटफार्मों पर अपने यूनिक एसएमएस हेडर आईडी, सामग्री और ग्राहकों की मंजूरी को रजिस्टर्ड करने के लिए जरूरी बताया गया है। कोई भी SMS ट्रैफ़िक जो कठोर फ़िल्टर को पारित करने में विफल रहता है उसे वितरित नहीं किया जाएगा। साथ ही उसे ब्लॉक कर दिया जाएगा। क्योंकि उनका उद्देश्य ग्राहकों को धोखा देने का होता है।

बिजनेस वाली कंपनियों के लिए मुश्किल

टेलीकॉम सेक्टर के विशेषज्ञों का कहना है कि हालांकि, इस सिस्टम ने कुछ बिजनेस कंपनियों के लिए मुसीबत पैदा कर दी है। 8 मार्च से लागू फिल्टर के कारण नेट बैंकिंग, ऑनलाइन रेलवे टिकट बुकिंग, ई-कॉमर्स बिक्री और SMS और OTP जैसी कई सेवाएं प्रभावित हुई थीं। फिर इसे उस समय टाल दिया गया था।

100 करोड़ SMS को फिल्टर करना मुश्किल

बताया गया है कि उस दिन रोजाना SMS ट्रैफिक का 40% करीब, जो 100 करोड़ के करीब था उसे ड्राप कर दिया गया था। कुछ टेलीमार्केटिंग वालों का कहना है कि वे 1 अप्रैल को एक और SMS फेलियर देख रहे हैं क्योंकि 100 करोड़ SMS को फिल्टर करना बहुत ही मुश्किल काम है।