पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना काल में महंगाई की मार:1 साल में ही सोयाबीन तेल 79% और सरसों 58% महंगी हुई, आने वाले दिनों में और बढ़ सकती है महंगाई

नई दिल्ली4 महीने पहले

कोरोना काल में आम लोगों की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। एक तरफ कोरोना वायरस से लोगों के जान पर बन आई है, तो दूसरी ओर महंगाई ने लोगों की कमर तोड़ दी है। बीते 1 साल में महंगाई तेजी से बढ़ी है। देश में एग्री प्रोडक्ट्स का सबसे बड़ा वायदा बाजार (फ्यूचर मार्केट) नेशनल कमोडिटी एंड डेरीवेटिव्स एक्सचेंज (NCDEX) बीते 1 साल में ही 44% से ज्यादा बढ़ा है। इससे पता चलता है कि देश में खाने-पीने के सामान की कीमतें कितनी तेजी से बढ़ी हैं।

NCDEX एक साल में ही 44% बढ़ा
NCDEX पर कुछ प्रमुख कृषि उत्पादों का सूचकांक यानी एग्रीडेक्स सिर्फ 1 साल के कारोबार में ही 44% बढ़ गया है। NCDEX ने पिछले साल 26 मई को 10 लिक्विड कमोडिटीज के मूल्यों पर आधारित सूचकांक एग्रीडेक्स लांच किया था। इन 10 एग्री कमोडिटीज में सोयाबीन, रिफाइंड सोया तेल, चना, सरसों, धनिया, जीरा, कॉटनसीड ऑयलकेक, ग्वारसीड और ग्वारगम हैं। 26 मई को 1000 हजार पॉइंट के साथ इसकी शुरुआत हुई थी, जो अब 1,442 पॉइंट पर पहुंच गया है।

तेल की कीमतों ने बढ़ाई आम आदमी की मुसीबत
सालभर में सोयाबीन तेल की कीमत 79% बढ़ी है। इसके अलावा सरसाें भी 58% महंगी हुई है। मसाले और चना दाल महंगे होने से भी आम आदमी के रसोई का बजट बिगड़ा है। बीते 1 साल में हल्दी 52% और धनिया 27% महंगा हुआ है।

सरसों और सोयाबीन 7 हजार पर पहुंचे
देश में सोयाबीन का भाव प्रति क्विंटल 7 हजार रुपए पर पहुंच गया है, जो पिछले साल 4,500 रुपए के करीब था। वहीं, अगर सरसों की बाते करें तो ये भी प्रति क्विंटल 7 हजार के करीब पहुंच गया है। जो पिछले साल 4 हजार के करीब था। आम तौर पर खाने में सरसों और सोयाबीन का तेल ही इस्तेमाल होता है। ऐसे में इनके महंगे होने से आम आदमी की खाने की थाली महंगी हो गई है।

बीते 1 साल में कैसा रहा NCDEX एग्रीडेक्स?

आइटमअभी का भावबीते 1 साल में कितना बढ़ा (% में)
सोयाबीन6864.082.99
रिफाइंड सोया तेल1381.578.84
सरसों6912.058.28
चना5226.0

27.84

कॉटनसीड ऑयलकेक2656.035.23
धनिया7150.027.21
जीरा13760.02.76
ग्वारसीड4269.020.40
ग्वारगम6425.021.16
कैस्टरसीड5036.042.12

लॉकडाउन खुलने के बाद और बढ़ सकती है महंगाई
IIFL सिक्योरिटीज के वाइस प्रेसिडेंट (कमोडिटी एंड करेंसी) अनुज गुप्ता कहते हैं कि अभी लॉकडाउन के कारण डिमांड में कमी है। लॉकडाउन खुलने पर जब होटल और शादी या अन्य प्रोग्राम शुरू होंगे तक इनकी डिमांड तेजी से बढ़ेगी। इससे सरसों और सोयाबीन के तेल की कीमत और भी बढ़ सकती है। इसके अलावा आने वाले दिनों में मसालों में भी तेजी आ सकती है।

1700 तक पहुंच सकता है एग्रीडेक्स
अजय कहते हैं कि आने वाले 2 से 3 महीनों में NCDEX 1700 पॉइंट पर पहुंच सकता है। कमोडिटी प्राइस मापने वाला यह इंडेक्स बढ़ता है तो महंगाई भी बढ़ेगी। इसका सीधा असर आम लोगों की जेब पर पड़ने वाला है।