पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Business
  • Startups Given Jobs Even In Covid Period, 1.7 Lakh People Given Jobs In First Half

स्टार्टअप्स में भर्तियां:कोरोना के बीच नौकरियां देने में अव्वल रहे स्टार्टअप्स, पहली छमाही में 1.7 लाख लोगों को रोजगार दिया

अहमदाबाद6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोरोना में रुकी फंडिंग सितंबर के बाद दोबारा शुरू हुई, जिससे स्टार्टअप्स की ग्रोथ को बढ़ावा मिला
  • छोटी इंडस्ट्रीज नई टेक्नोलॉजी अपना रही हैं, जिसके चलते टेक-स्टार्टअप का काम और बढ़ सकता है

कोरोना महामारी के बीच पिछले साल जब बड़ी कंपनियां कर्मचारियों की छंटनी कर रही थीं, उस समय स्टार्टअप्स नए लोगों को भर्ती कर रहे थे। कॉमर्स मिनिस्ट्री की स्टार्टअप इंडिया रिपोर्ट के मुताबिक, स्टार्टअप्स ने पिछले फाइनेंशियर इयर में सितंबर तक 1.70 लाख रोजगार दिए थे। इस समय देश में 40 हजार रजिस्टर्ड स्टार्टअप्स हैं, जो 2016 से अब तक करीब 4.7 लाख से ज्यादा लोगों को रोजगार दे चुके हैं।

कोरोना ने टेक-स्टार्टअप्स को ग्रोथ दी
फेडरेशन ऑफ इंडियन चैंबर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (FICCI) गुजरात के को-चेयर सुनील पारेख बताते हैं, 'कोरोना में ऑनलाइन के ट्रेंड ने जोर पकड़ा, जिसका फायदा टेक स्टार्टअप को हुआ। कोरोना में रुकी फंडिंग सितंबर के बाद दोबारा शुरू हो गई, जिससे उनकी ग्रोथ को बढ़ावा मिला। छोटी इंडस्ट्रीज या उद्योग-धंधे भी टेक्नोलॉजी को अपना रहे हैं, जिसके चलते टेक-स्टार्टअप का काम और बढ़ सकता है।'

स्टार्टअप्स की इंक्वॉयरी में 30% की बढ़ोतरी
रिक्रूटमेंट एजेंसी 'पोस्ट अ रिज्यूम' के फाउंडर और बिजनेस हेड विपुल माली बताते हैं कि स्टार्टअप्स की इंक्वायरी 30% बढ़ी है। कोरोना लॉकडाउन में टेक-स्टार्टअप का काम बढ़ा, तो भर्तियां भी बढ़ीं। अहमदाबाद के वर्चुअल इवेंट टेक्नोलॉजी स्टार्टअप हुबिलो ने पिछले छह महीने में 130 लोगों को नौकरी दी। अक्टूबर 2020 में उसने करीब 33 करोड़ रुपए का फंड जुटाया था। अब उसके काम का विस्तार विदेशों में भी किया जा रहा है।

काम बढ़ने पर नई भर्तियां करने की तैयारी
डेटा साइंस का काम करने वाली गांधीनगर के स्टार्टअप एरोकोम आईटी सॉल्यूशंस के डायरेक्टर कौशल मांडलिया ने कहा, पिछले साल मार्च-अप्रैल में कंपनी ने भर्तियां रोक दी थी। फिलहाल टीम में 14 लोग हैं और अब काम बढ़ने के चलते हम 12 लोगों की हायरिंग करने जा रहे हैं।'

लॉकडाउन के बाद डिजिटाइजेशन बिजनेस को बूस्ट मिला
अहमदाबाद की स्टार्टअप लीगलविज (Legalwiz.in) के फाउंडर श्रीजय सेठ बताते हैं, 'लॉकडाउन के बाद कई कंपनियां डिजिटाइजेशन की तरफ बढ़ी हैं। उसका फायदा हमारे जैसे स्टार्टअप्स को मिला है, जो इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी, कंपनी रजिस्ट्रेशन का काम करते हैं। जनवरी के मुकाबले हमारे पास अब 20% ज्यादा काम है।'

खबरें और भी हैं...