पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Business
  • Stock Market Retail Investors Update; Number Of New Demat Accounts Opened In Nine Months

बाजार में रिटेल निवेशकों की भागीदारी:शेयर बाजार में छोटे शहरों के निवेशकों की हिस्सेदारी बढ़ी, बीते 9 महीने में लगभग 63 लाख डीमेट अकाउंट खुले

मुंबई9 महीने पहले

कोरोना महामारी के बीच शेयर बाजार में छोटे शहरों में की हिस्सेदारी बढ़ी है। देश की कई ब्रोकरेज कंपनियों ने माना कि देश में डीमेट अकाउंट खुलने की रफ्तार मेट्रो शहरों के बजाय टीयर-2 और टीयर-3 शहरों की ज्यादा रही। सिक्युरिटीज एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया (SEBI) के द्वारा डेटा के मुताबिक बीते 9 महीनों में लगभग 63 लाख डीमेट अकाउंट खोले गए। भारत में कुल 4.44 करोड़ डीमेट अकाउंट हैं।

दक्षिण भारत के राज्यों की हिस्सेदारी बढ़ी

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) के मुताबिक तेलंगाना में नए ग्राहकों की संख्या पिछले साल की तुलना में 157.01% बढ़ी है। वहीं, आंध्र प्रदेश में 33.39% अधिक लोगों ने डीमेट अकाउंट ओपन किए। बेंगलुरु की ट्रेडिंग और इन्वेस्टमेंट कंपनी फायर्स (FYRES) ने कहा कि पिछले पांच महीने में डीमेट अकाउंट खुलने में 80% की बढ़त देखी गई। इसमें से 25% ट्रेडर्स के अकाउंट आंध्र प्रदेश से हैं। कंपनी के को-फाउंडर तेजस खोड़े ने कहा कि उनसे जुड़े आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और 50% ग्राहकों की उम्र 25-34 है।

इसी तरह एडलवाइज वेल्थ मैनेजमेंट ने कहा कि भारत में उसके ट्रेडिंग एप्लीकेशन एडलवाइज मोबाइल ट्रेडर (EMT) के ग्राहकों की संख्या में सालाना 70% की बढ़त दर्ज की गई। बता दें कि वेल्थ मैनेजमेंट कंपनी भारत में दूसरी सबसे बड़ी नॉन-बैंक वेल्थ मैनेजमेंट कंपनी है।

महिलाओं की भागीदारी पिछले साल की तुलना में बढ़ी

कंपनी के मुताबिक भारत के टीयर-2 और टीयर-3 शहरों में यह ग्रोथ 87% से अधिक रही। खास बात यह रही कि पिछले साल की तुलना में इस साल ट्रेडिंग में महिलाओं की भागीदारी बढ़ी है। कंपनी ने बताया कि ऐप पर महिलाओं द्वारा ट्रेडिंग में 127% की ग्रोथ दर्ज की गई। वहीं, ऐप के माध्यम से अकाउंट खोलने में भी बढ़ोतरी देखी गई। वित्त वर्ष 20 की दूसरी तिमाही की तुलना में वित्त वर्ष 21 की दूसरी तिमाही में यह 300% बढ़ी है।

बाजार में रिकॉर्ड तेजी

बाजार के जानकार कहते हैं कि वर्तमान में घरेलू बाजार में रिकॉर्ड बढ़त की दो प्रमुख वजह है। पहली, विदेशी निवेश और दूसरी, रिटेल निवेशकों की बढ़ती भागीदारी। इसके चलते बाजार के दोनों प्रमुख इंडेक्स 23 मार्च के निचले स्तर से BSE सेंसेक्स पहली बार 46 हजार के पार और NSE निफ्टी भी 13500 स्तर के पार बंद हुआ है। वहीं, BSE में लिस्टेड कंपनियों का मार्केट कैप भी रिकॉर्ड 184 लाख करोड़ रुपए के करीब पहुंच गया है।

खबरें और भी हैं...