• Hindi News
  • Business
  • Supreme Court Approves SBI Mutual Fund Plan To Return Rs 9,122 Crore In Franklin Case

फ्रैंकलिन टेंपल्टन मामला:सुप्रीम कोर्ट ने SBI म्यूचुअल फंड के प्लान को मंजूरी दी, निवेशकों को लौटाने हैं 9,122 करोड़ रुपए

नई दिल्ली8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फ्रैंकलिन टेंपलटन ने 23 अप्रैल को अपनी 6 डेट स्कीम्स को बंद कर दिया था। - Dainik Bhaskar
फ्रैंकलिन टेंपलटन ने 23 अप्रैल को अपनी 6 डेट स्कीम्स को बंद कर दिया था।
  • SBI म्यूचुअल फंड ने SEBI से विचार के बाद जमा किया था डिस्ट्रीब्यूशन प्लान
  • निवेशकों को 20 दिन में लौटाए जाने हैं पैसा, अगली सुनवाई 17 फरवरी को होगी

सुप्रीम कोर्ट ने फ्रैंकलिन टेंपल्टन म्यूचुअल फंड के निवेशकों को रुपए लौटाने के लिए SBI म्यूचुअल फंड के प्लान को मंजूरी दे दी है। फ्रैंकलिन टेंपल्टन के निवेशकों को 9,122 करोड़ रुपए लौटाए जाने हैं। SBI म्यूचुअल फंड ने SEBI से विचार-विमर्श के बाद सुप्रीम कोर्ट में डिस्ट्रीब्यूशन प्लान दाखिल किया था। अब इस मामले में अगली सुनवाई 17 फरवरी को होनी है।

पिछली सुनवाई में दिया था रुपए लौटाने का आदेश

सुप्रीम कोर्ट ने पिछली सुनवाई के दौरान 2 फरवरी को फ्रैंकलिन टेंपल्टन के निवेशकों को 9,122 करोड़ रुपए लौटाने का आदेश दिया था। यह रकम 20 दिन में अंदर लौटाई जानी है। 20 दिन की अवधि 2 फरवरी से ही लागू हो गई थी। फ्रैंकलिन टेंपल्टन ने अपनी 6 स्कीम्स को पिछले साल अप्रैल में अचानक बंद कर दिया था। म्यूचुअल फंड हाउस ने कहा था कि इन स्कीम्स को पैसों की कमी के कारण बंद किया गया है।

23 अप्रैल को बंद की गई थीं यह 6 डेट स्कीम

फ्रैंकलिन टेंपलटन ने 23 अप्रैल को अपनी 6 डेट स्कीम्स को बंद कर दिया था। जिन स्कीम्स को बंद किया गया था, उनमें फ्रैंकलिन इंडिया लो ड्यूरेशन फंड, फ्रैंकलिन इंडिया डायनामिक एक्रुअल फंड, फ्रैंकलिन इंडिया क्रेडिट रिस्क फंड, फ्रैंकलिन इंडिया शॉर्ट टर्म इनकम प्लान, फ्रैंकलिन इंडिया अल्ट्रा शॉर्ट बॉन्ड फंड और फ्रैंकलिन इंडिया इनकम ऑपर्चुनिटीज फंड शामिल हैं। हाल ही में फ्रैंकलिन टेंपल्टन म्यूचुअल फंड ने अपने निवेशकों से कहा था कि बंद स्कीम्स से अब तक मैच्योरिटी के तौर पर 14,931 करोड़ रुपए मिल पाए हैं। इन 6 बंद स्कीमों का कुल AUM 28 हजार करोड़ रुपए था।

1 लाख करोड़ से ज्यादा के फंड को मैनेज करती है फ्रैंकलिन

फ्रैंकलिन टेंपल्टन म्यूचुअल फंड भारत में करीबन 1 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा के फंड को मैनेज करता है। लेकिन हाल के दिनों में इसका फंड 80 हजार करोड़ रुपए हो गया है। जबकि पूरी दुनिया में यह 700 अरब डॉलर के फंड का प्रबंधन करता है। फ्रैंकलिन टेंपल्टन ने स्कीम्स को बंद करने के लिए सेबी से कोई मंजूरी नहीं ली थी।

फ्रैंकलिन टेंपल्टन के रास्ते पर कई फंड हाउस

चेन्नई फाइनेंशियल मार्केट्स एंड अकाउंटबिलिटी (CFMA) ने हाल ही में आशंका जताई है कि म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री में फ्रैंकलिन टेंपल्टन जैसी कई घटनाएं हो सकती हैं। इससे निवेशकों का नुकसान होगा। CFMA ने कहा है कि देश में 3 करोड़ म्यूचुअल फंड निवेशकों के लिए केवल कोर्ट से ही एकमात्र उम्मीद बची है। इसमें वे भी निवेशक हैं जो फ्रैंकलिन टेंपल्टन में फंसे हुए हैं। इस एसोसिएशन ने कहा है कि अगर ऐसा होता है तो इससे फंड इंडस्ट्री को 15 लाख करोड़ रुपए का नुकसान होगा।