• Hindi News
  • Business
  • The Biggest Decline In US GDP Since 1946, Growth Of Minus 3.5% Last Year

महामारी पड़ी भारी:अमेरिका की GDP में 1946 के बाद सबसे बड़ी गिरावट, 2020 में शून्य से 3.5 पर्सेंट नीचे रही ग्रोथ

वॉशिंगटन10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • विश्व युद्ध खत्म होने के बाद वाले साल में जीडीपी ग्रोथ शून्य से 11.6 पर्सेंट नीचे रहा था
  • सितंबर क्वॉर्टर में अमेरिका की इकनॉमी का साइज सालाना आधार पर 33.4 पर्सेंट घटा था

अमेरिकी इकोनॉमी की ग्रोथ 2020 में शून्य से 3.5 पर्सेंट नीचे रही। यह जानकारी अमेरिकी वाणिज्य मंत्रालय की तरफ से जारी आंकड़ों से मिली है। 1946 के बाद पहली बार हुआ है जब अमेरिकी इकोनॉमी का साइज इतना ज्यादा घटा है। विश्व युद्ध खत्म होने के बाद वाले उस साल में अमेरिका का जीडीपी ग्रोथ शून्य से 11.6 पर्सेंट नीचे रहा था।

इकोनॉमिक ग्रोथ के डेटा गुरुवार को जारी किए गए थे। उसके मुताबिक दिसंबर तिमाही में ग्रोथ रेट 4 पर्सेंट रहा था। इतना ग्रोथ रेट तब रहा, जब कोरोनावायरस का कहर चरम पर था। सितंबर क्वॉर्टर में अमेरिका की इकनॉमी का साइज सालाना आधार पर 33.4 पर्सेंट घटा था। यह जानकारी चीनी संवाद एजेंसी शिन्हुआ ने दी है।

अमेरिका के वाणिज्य मंत्रालय के मुताबिक साल की दूसरी छमाही में देश की इकोनॉमी में थोड़ी बहुत रिकवरी हुई। इसके चलते 2020 के पूरे साल में जीडीपी ग्रोथ रेट -3.5 पर्सेंट रहा था, जो पिछले साल 2.2 पर्सेंट रहा था। 2009 के बाद पहली बार अमेरिकी जीडीपी की ग्रोथ नेगेटिव रही है।

एक दिन पहले यानी बुधवार को फेडरल रिजर्व के चेयरमैन जेरोम पावेल ने कहा था कि हाल के महीनों में रिकवरी सुस्त हुई है। इसकी वजह उन इकोनॉमिक सेक्टर की गतिविधियों में सुस्ती रही है जिन पर कोरोना वायरस और फिजिकल डिस्टेंसिंग की मार सबसे ज्यादा पड़ी है।

पिछले साल अमेरिकी संसद ने कोविड-19 से बचाव के लिए 900 अरब डॉलर के पैकेज को मंजूरी दी थी। मंजूरी से पहले इस बात पर खूब रस्साकशी हुई कि पैकेज कितना बड़ा होना चाहिए और इसके दायरे में किसको लाया जाना चाहिए। लेकिन इकोनॉमिस्ट और कुछ पॉलिसीमेकर्स का कहना है कि इतना पैकेज इकोनॉमी को मजबूत बनाने लायक नहीं है।

नए प्रेसिडेंट जो बायडेन ने 1.9 लाख करोड़ डॉलर का राहत पैकेज तैयार किया है। इसका रिपब्लिकन सांसद जमकर विरोध कर रहे हैं। फिलहाल यह साफ नहीं है कि क्या बायडेन सरकार प्रस्ताव को संसद में पास कराने लायक मत जुटा पाएगी।

खबरें और भी हैं...