पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Business
  • The Top Executives And Related Entities Withdrew 56 Crore Rupees Before The Redemption Was Stopped

फ्रैंकलिन टेंपलटन मामला:स्कीमें बंद होने से पहले अधिकारियों और रिश्तेदारों ने निकाले थे पैसे, मार्च और अप्रैल में 23 बार में बेची गईं कुल 56 करोड़ रुपए की यूनिट

7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

डूबते जहाज के कप्तान से उम्मीद की जाती है कि वह उसको सबसे अंत में छोड़ेगा, लेकिन फ्रैंकलिन टेंपलटन की डेट स्कीमों के मामले में ऐसा नहीं हुआ। हम उन छह स्कीमों की बात कर रहे हैं जिनको फंड हाउस ने डेट मार्केट की बदहाली और रिडेम्शन प्रेशर के चलते 23 अप्रैल 2020 को बंद करने का फैसला किया था। सेबी की तरफ से इस पूरे मामले की कराई गई फोरेंसिक जांच में फंड हाउस के टॉप ऑफिसरों की तरफ से कथित तौर पर ​​​​​​​'इनसाइडर ट्रेडिंग' होने की बात का पता चला है।

टॉप एग्जिक्यूटिव्स और उनसे जुड़े लोगों ने मार्च-अप्रैल में कुल 56 करोड़ निकाले थे

फंड हाउस के टॉप एग्जिक्यूटिव, उनके रिश्तेदारों और ट्रस्टी ने डेट स्कीमों में रिडेम्शन बंद किए जाने से पहले उनमें बिकवाली की थी। रिपोर्ट के मुताबिक, टॉप एग्जिक्यूटिव्स और उनके रिश्तेदारों और उनसे जुड़े संस्थानों ने मार्च और अप्रैल में 23 बार में कुल 56 करोड़ रुपए निकाले थे। ये निकासी तब हुईं जब उन स्कीमों के रिडेम्शन प्रेशर को देखते हुए फंड हाउस ने बैंकों से जमकर उधारी ली थी।

फ्रैंकलिन टेंपलटन के एशिया पैसेफिक हेड से लेकर ट्रस्टी तक ने बेची यूनिट्स

फंड हाउस के जिन टॉप एग्जिक्यूटिव ने डेट स्कीमों में रिडेम्शन बंद होने से पहले से उनसे पैसे निकाले थे, उनमें फ्रैंकलिन टेंपलटन के एशिया पैसेफिक हेड विवेक कुदवा अहम थे। उनकी पत्नी रूपा कुदवा (ओमिड्यार नेटवर्क इंडिया की एमडी) और मां वसंती कुदवा ने भी मार्च और अप्रैल के शुरुआती दिनों में उन स्कीमों से पैसे निकाले थे। प्रेसिडेंट संजय सप्रे और उनकी पत्नी प्रदिप्ता सप्रे की तरफ से भी रकम निकाली गई थी लेकिन वह मामूली थी। स्कीमों से पैसे निकालने वालों में ट्रस्टी अरविंद वासुदेव सोंडे, डायरेक्टर जयराम एस अय्यर भी शामिल थे।

20 मार्च और 2 अप्रैल को विवेक कुदवा ने निकासी की थी

टॉप एग्जिक्यूटिव्स की तरफ से पहली निकासी विवेक कुदवा की तरफ से 20 मार्च को हुई थी और दूसरी बार पैसे उन्होंने 2 अप्रैल को निकाले थे। उनकी तरफ से निकाली गई कुल रकम 11.60 करोड़ रुपए की थी। इंडिविजुअल में सबसे ज्यादा 17.45 करोड़ रुपए की रकम उनकी पत्नी रूपा ने निकाली थी। रूपा ने अपनी यूनिट्स लगातार दो दिन, 23 और 24 मार्च को बेची थीं। विवेक की मां वसंती ने 64.5 लाख रुपए की यूनिट्स बेची थीं।

पूरे घटनाक्रम में 20 मार्च और 23 मार्च की बड़ी अहमियत

फंड के प्रेसिडेंट संजय सप्रे ने 2 मार्च को एक लाख रुपए जबकि प्रदिप्ता सप्रे ने 3 अप्रैल को 4.8 लाख रुपए निकाले थे। फंड के ट्रस्टी सोंडे ने 16 अप्रैल को 2.45 करोड़ रुपए की निकासी की थी। उनके अलावा फ्रैंकलिन टेंपलटन की एसोसिएट कंपनी मायविश मार्केटप्लेसेज ने 22 करोड़ रुपए की यूनिट्स 6 और 11 मार्च को बेची थीं। विवेक कंपनी में डायरेक्टर हैं। पूरे घटनाक्रम में 20 मार्च और 23 मार्च की बड़ी अहमियत है। फंड हाउस ने 20 मार्च को अपनी उधारी लिमिट नेटवर्थ के 20% से बढ़ाने की इजाजत सेबी से मांगी थी जो 23 मार्च को मंजूर की गई थी।

फंड हाउस को कोर्ट में घसीटने वाले निवेशकों को बनाया जा रहा विलेन

इन सबके बीच बाजार में एक और कहानी चल रही है। स्कीमों की बदइंतजामी के लिए जिस फंड को कठघरे में खड़ा किया जाना चाहिए, अब उनकी बहादुरी के गुण गाए जा रहे हैं। उसके प्रति निवेशकों और बाजार का गुस्सा सहानुभूति में बदल गया है क्योंकि फंड हाउस कमजोर बाजार में 15,000 करोड़ रुपए निकालने में कामयाब रहा है। जिन निवेशकों ने फंड हाउस को कोर्ट में घसीट लिया था, उनको स्कीमों के पास मौजूद रकम के बंटवारे में देरी के लिए विलेन माना जा रहा है।

खबरें और भी हैं...