• Hindi News
  • Business
  • There Will Be A Chance To Invest In Sovereign Gold Bonds From Today, Know The Important Things Related To It Here

सोने में निवेश:आज से सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में निवेश करने का मिलेगा मौका, यहां जानें इससे जुड़ी जरूरी बातें

नई दिल्ली7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

इस त्योहारी सीजन में अगर आप सोने में निवेश करने का प्लान बना रहे हैं तो सरकार आपके लिए एक बार फिर सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम लेकर आई है। सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम 2021-22 के तहत 25 से 29 अक्टूबर तक सोने में निवेश का मौका मिलेगा।

सरकार सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड के लिए 4,765 रुपए प्रति ग्राम का भाव तय किया है। ऑनलाइन अप्लाई करने और डिजिटल पेमेंट करने पर प्रति ग्राम 50 रुपए का डिस्काउंट मिलेगा। यानी, आपको 10 ग्राम सोने के लिए 47,650 रुपए देने होंगे।

अक्टूबर 2021 से मार्च 2022 के बीच चार चरणों में जारी होंगे बॉन्ड
सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड की 2021-22 सीरीज के तहत अक्टूबर 2021 से मार्च 2022 के बीच चार चरणों में बॉन्ड जारी किए जाएंगे। वित्त वर्ष 2021-22 में कुल 10 चरणों में गोल्ड बॉन्ड लॉन्च किए जाने हैं। इसमें से मई 2021 से लेकर सितंबर 2021 तक छह चरणों में गोल्ड बॉन्ड लॉन्च हो चुके हैं। ये सांतवी सीरीज है।

RBI जारी करता है सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड
सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड एक सरकारी बॉन्ड होता है, जिसे RBI की तरफ से जारी किया जाता है। इसे डीमैट के रूप में परिवर्तित कराया जा सकता है। इसका मूल्य सोने के वजन में होता है। यदि बॉन्ड पांच ग्राम सोने का है, तो पांच ग्राम सोने की जितनी कीमत होगी, उतनी ही बॉन्ड की कीमत होगी। इसे खरीदने के लिए सेबी के अधिकृत ब्रोकर को इश्यू प्राइस का भुगतान करना होता है। बॉन्ड को बेचने के बाद पैसा निवेशक के खाते में जमा हो जाता है।

इश्यू प्राइस पर मिलता है 2.50% ब्याज
सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में इश्यू प्राइस पर हर साल 2.50% का निश्चित ब्याज मिलता है। यह पैसा हर 6 महीने में आपके खाते में पहुंच जाता है। यानी 47,650 रुपए के निवेश पर हर साल 1,204 रुपए और 8 साल में कुल मिलाकर 10,537 रुपए ब्याज के तौर पर मिल जाएंगे। हालांकि, इस पर स्लैब के हिसाब से टैक्स चुकाना होगा।

अधिकतम 4 किलो सोने में कर सकते हैं निवेश
कोई शख्स एक वित्त वर्ष में कम से कम 1 ग्राम और अधिकतम 4 किलोग्राम तक वैल्यू का बॉन्ड खरीद सकता है। हालांकि, किसी ट्रस्ट के लिए खरीद की अधिकतम सीमा 20 किलो है।

शुद्धता और सुरक्षा की कोई चिंता नहीं
सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में शुद्धता की चिंता करने की कोई जरूरत नहीं होती है। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) के मुताबिक गोल्ड बॉन्ड की कीमत इंडियन बुलियन एंड ज्वेलर्स एसोसिएशन (IBJA) द्वारा प्रकाशित 24 कैरेट शुद्धता वाले सोने की कीमत से लिंक होती है। इसके साथ ही इसे डीमैट के रूप में रखा जा सकता है, जो काफी सुरक्षित है और उस पर कोई खर्च भी नहीं होता है।

इस पर कितना देना होता है टैक्स
सॉवरेन 8 साल के मैच्योरिटी पीरियड के बाद इससे होने वाले लाभ पर कोई टैक्स नहीं लगता। वहीं अगर आप 5 साल बाद अपना पैसा निकालते हैं, तो इससे होने वाले लाभ पर लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन (LTCG) के रूप में 20.80% टैक्स लगता है।

ऑफलाइन भी कर सकते हैं निवेश
RBI ने इसमें निवेश के लिए कई तरह के विकल्प दिए हैं। बैंक की शाखाओं, पोस्ट ऑफिस, स्टॉक एक्सचेंज और स्टॉक होल्डिंग कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (SHCIL) के जरिए इसमें निवेश किया जा सकता है। निवेशक को एक आवेदन फॉर्म भरना होगा। इसके बाद आपके अकाउंट से पैसे कट जाएंगे और आपके डीमैट खाते में ये बॉन्ड ट्रांसफर कर दिए जाएंगे। निवेश करने के लिए पैन होना अनिवार्य है।यह बॉन्ड सभी बैंकों, स्टॉक होल्डिंग कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (SHCIL), मान्यता प्राप्त स्टॉक एक्सचेंजों, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ इंडिया लिमिटेड (NSE) और बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज लिमिटेड (BSE) के माध्यम से बेचे जाएंगे।

बीते 6 सालों में दिया 79% का रिटर्न
2015-16 में जब सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम को लॉन्च किया गया था, तब इसका प्रति ग्राम भाव 2,684 रुपए था। इस पर 50 रुपए का डिस्काउंट था। यानी, भाव 2,634 रुपए हो गया था। सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड की अभी जो सीरीज लॉन्च हुई है, उसका भाव 4,765 रुपए है। 50 रुपए डिस्काउंट के साथ यह भाव अब 4,715 रुपए पर आ गया है। इस तरह से पिछले 6 सालों में इस स्कीम से 79% का रिटर्न मिला है।

इसमें निवेश करना कैसा रहेगा?
पर्सनल फाइनेंस एक्सपर्ट और ऑप्टिमा मनी मैनेजर्स के संस्थापक व सीईओ पंकज मठपाल कहते हैं कि अगर आप गोल्ड में निवेश करना चाहते हैं तो ये सही समय हो सकता है, क्योंकि आने वाले दिनों में ये अच्छा रिटर्न दे सकता है। उनके अनुसार बीते 10 सालों की बात करें तो सोने ने औसतन हर साल 10 से 11% रिटर्न दिया है। लंबे समय के लिए सोने में निवेश फायदेमंद रहेगा।