पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Business
  • Top 5 Indian IT Companies Will Give 96,000 Jobs NASSCOM, Bank Of America Project 3 Million Jobs Losses By 2022

IT में नहीं होगी ऑटोमेशन की वजह से छंटनी:जॉब और जरूरी स्किल में होगा बड़ा बदलाव, टॉप-5 IT कंपनियां देंगी 96,000 नौकरियां: नैस्कॉम

एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

IT कंपनियों की टॉप बॉडी नैस्कॉम ने कहा है कि इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी अब भी छंटनी करने से ज्यादा नौकरियां देने वाला ऑर्गनाइज्ड सेक्टर है। उसके मुताबिक, मौजूदा वित्त वर्ष में देश की टॉप IT कंपनियों ने 96 हजार से अधिक प्रोफेशनल हायर करने की योजना बनाई है।

BoA ने दिया 30 लाख प्रोफेशनल की छंटनी का अनुमान

नैस्कॉम का यह बयान उस समय आया है, जब बैंक ऑफ अमेरिका (BoA) ने अपनी हालिया रिपोर्ट में 2022 तक भारत में 30 लाख IT प्रोफेशनल की छंटनी होने का अनुमान जताया है। रिपोर्ट में उसने कहा है कि खासतौर पर टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में ऑटोमेशन बढ़ने के चलते सॉफ्टवेयर कंपनियों को छंटनी करनी पड़ेगी।

ऑटोमेशन से नौकरियों के टाइप और रोल में होगा बदलाव

IT सेक्टर की टॉप इंडस्ट्री बॉडी ने अपने बयान में यह दलील दी है कि टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में तेजी से विकास हो रहा है और ऑटोमेशन को बढ़ावा मिल रहा है। इसके चलते IT से जुड़ी पारंपरिक नौकरियों के प्रकार और रोल में बड़ा बदलाव होगा और नई नौकरियों के मौके बनेंगे।

96 हजार से ज्यादा प्रोफेशनल की हायरिंग का प्लान

नैस्कॉम का कहना है कि इंडियन IT सेक्टर में छंटनी से ज्यादा भर्तियां हुईं हैं। वित्त वर्ष 2021 में इस सेक्टर के वर्कफोर्स में 1,38,000 लोगों की बढ़ोतरी हुई है। उसने यह भी कहा कि घरेलू IT कंपनियों ने इस वित्त वर्ष में 96 हजार से ज्यादा प्रोफेशनल को हायर करने की योजना बनाई है।

2022 तक 30 लाख की छंटनी के आसार: रिपोर्ट

बैंक ऑफ अमेरिका ने अपनी हालिया रिपोर्ट में लिखा है कि भारतीय सॉफ्टवेयर कंपनियों में फिलहाल 1.6 करोड़ प्रोफेशनल को रोजगार मिला हुआ है। लेकिन 2022 तक उनमें से 30 लाख प्रोफेशनल छंटनी का शिकार हो सकते हैं। छंटनी से IT कंपनियों को वेतन और दूसरे मदों में सालाना 100 अरब डॉलर की बचत होगी।

रोबोट प्रोसेस ऑटोमेशन के चलते जाएंगी नौकरियां

रिपोर्ट के मुताबिक इंडियन IT सेक्टर में काम करने वाले करीब 1.6 करोड़ लोगों में से 90 लाख लोग बीपीओ सर्विसेज में हैं और कम स्किल वाले काम कर रहे हैं. रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि रोबोट प्रोसेस ऑटोमेशन (RPA) की वजह से इन 90 लाख लोगों में से 30% यानी लगभग 30 लाख लोग नौकरियां खो देंगे।

क्या होता है रोबोट प्रोसेस ऑटोमेशन?

RPA कोई टिन या लोहे का रोबोट नहीं, रूटीन और ज्यादा मेहनत का काम करने वाला एक तरह का सॉफ्टवेयर होता है। यह सॉफ्टवेयर प्रोफेशनल के काम करने के तरीके की नकल करता है और उनको ज्यादा उत्पादक कार्यों पर ध्यान देने में मदद करता है। इनसे समय की बचत होती है, लागत में कमी आती है।

अमेरिका में भी RPA से जाएंगी 10 लाख नौकरियां

बैंक ऑफ अमेरिका का यह भी कहना है कि अकेले RPA करीब 7 लाख प्रोफेशनल की जगह ले लेगा। बाकी नौकरियां आईटी कंपनियों के दूसरे टेक और स्किल अपग्रेडेशन की वजह से जाएंगी। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि अमेरिका में RPA के चलते करीब 10 लाख नौकरियां जाएंगी।

खबरें और भी हैं...