इकोनॉमी में तेज रिकवरी:UBS ने FY22 के लिए GDP अनुमान 8.9% से बढ़ाकर 9.5% किया, सरकार को 10% ग्रोथ का भरोसा

नई दिल्लीएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

स्विस ब्रोकरेज UBS सिक्योरिटीज ने चालू वित्त वर्ष के लिए अपने GDP अनुमान को बढ़ाकर 9.5% कर दिया है। सितंबर में UBS ने 8.9% ग्रोथ का अनुमान लगाया था। UBS ने इंडियन इकोनॉमी में उम्मीद से ज्यादा तेज रिकवरी और कंज्यूमर के बढ़ते भरोसे को देखते हुए ग्रोथ अनुमान को बढ़ाया है।

UBS ने FY23 में इकोनॉमी के 7.7% की रफ्तार से बढ़ने का अनुमान जताया है, लेकिन FY24 में यह कम होकर 6% पर आ सकती है। ऐसा ब्याज दरों के बढ़ने की वजह से होगा। UBS को लगता है कि रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया अगले वित्त वर्ष की दूसरी छमाही में दरों में 50 bps की बढ़ोतरी करेगा।

कोरोना की दूसरी लहर के बाद इकोनॉमी का बाउंस बैक
UBS सिक्योरिटीज इंडिया की चीफ इकोनॉमिस्ट तनवी गुप्ता जैन ने बुधवार को कहा कि इकोनॉमी फिर से बाउंस बैक कर रही है। कोरोना की दूसरी लहर के बाद रिकवरी उम्मीद से ज्यादा है। इसलिए इस वित्तीय वर्ष में उम्मीद से बेहतर जीडीपी की उम्मीद है।

गुप्ता ने कहा कि 'अर्थव्यवस्था तीसरी तिमाही में 9-10% और चालू वित्त वर्ष की चौथी तिमाही में 6-6.5% की दर से बढ़ेगी।' उन्होंने कहा कि 'इस वित्त वर्ष में रियल GDP 9.5% रह सकती है।' रिजर्व बैंक ने भी चालू वित्त वर्ष में 9.5% GDP ग्रोथ का अनुमान लगाया है।

सरकार को GDP में 10% की बढ़ोतरी का भरोसा
प्रधानमंत्री के इकोनॉमिक एडवाइजरी काउंसिल चेयरमैन बिबेक देबरॉय ने SBI कॉन्क्लेव में कहा, 'भारत की अर्थव्यवस्था उच्च विकास पथ की ओर बढ़ रही है। वित्त वर्ष 2021-22 में इसके लगभग 10% की दर से बढ़ने की संभावना है।'