• Hindi News
  • Business
  • UK Economy Suffers Biggest Drop In 300 years, GDP Reduced By 9.9% In 2020

2009 के मेल्टडाउन का डबल लॉस:ब्रिटेन की इकोनॉमी में 300 साल की सबसे बड़ी गिरावट, 2020 में 9.9% घट गया इकोनॉमी का साइज

लंदन10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
2020 में ब्रिटेन की इकोनॉमी के साइज में गिरावट ग्लोबल फाइनेंशियल क्राइसिस के दौरान 2009 में आई गिरावट के दोगुने से ज्यादा है। - Dainik Bhaskar
2020 में ब्रिटेन की इकोनॉमी के साइज में गिरावट ग्लोबल फाइनेंशियल क्राइसिस के दौरान 2009 में आई गिरावट के दोगुने से ज्यादा है।
  • इससे पहले ब्रिटेन की इकोनॉमी में सबसे बड़ी कमजोरी 1709 में आई थी
  • बेहिसाब पाला पड़ने से वहां की कृषि आधारित अर्थव्यवस्था हिल गई थी

2020 में ब्रिटेन की इकोनॉमी में लगभग 300 साल की सबसे बड़ी गिरावट आई और उसका साइज 9.9% घट गया। कोरोना वायरस के कारण दुकानों और रेस्टोरेंट पर ताला लग गया। ट्रैवल इंडस्ट्री का बुरा हाल है। मैन्युफैक्चरिंग एक्टिविटी में भी काफी कमी आई है।

2020 में ब्रिटेन की इकोनॉमी के साइज में गिरावट ग्लोबल फाइनेंशियल क्राइसिस के दौरान 2009 में आई गिरावट के दोगुने से ज्यादा है। इससे पहले ब्रिटेन की इकोनॉमी में सबसे बड़ी कमजोरी 1709 में आई थी। तब बेहिसाब पाला पड़ने से वहां की कृषि आधारित अर्थव्यवस्था हिल गई थी।

चौथे क्वॉर्टर में इकोनॉमी ने रिबाउंड किया था
ऑफिस फॉर नेशनल स्टैटिस्टिक्स की तरफ से ये डेटा तब आए हैं जब ब्रिटेन की इकोनॉमी कोविड-19 के चलते पाबंदियों में जकड़ी हुई है। चौथे क्वॉर्टर में इकोनॉमी ने रिबाउंड किया, लेकिन मिड दिसंबर में तीसरा लॉकडाउन लगने से सारे किए कराए पर पानी फिर गया।

ब्रिटेन की इकोनॉमी पर दूसरे औद्योगिक देशों के मुकाबले कोविड का ज्यादा कहर टूटा है। फ्रांस की GDP पिछले साल 8.3% घटी, जबकि जर्मनी की इकोनॉमी 5% और अमेरिका की अर्थव्यवस्था 3.5% सिकुड़ गई।

बजट में होंगे इकोनॉमी को मजबूत बनाने के उपाय
ब्रिटेन के वित्त मंत्री ऋषि सुनक ने कहा, ‘आज के आंकड़े बताते हैं कि इकोनॉमी को कोविड-19 से बड़ा झटका लगा है। इसका बुरा असर दुनिया भर के देशों पर भी पड़ा है। इकोनॉमी में मजबूती आ तो रही है, लेकिन कोविड-19 बहुत से लोगों और कारोबार पर गहरा असर डालेगा।’

उन्होंने कहा कि 3 मार्च के बजट में वह रोजगार बचाने और इकोनॉमी को मजबूत बनाने के नए उपायों का ऐलान करेंगे।

20% आबादी को टीके का एक डोज मिल चुका है
ब्रिटेन की इकोनॉमी में लगभग 80% कंट्रिब्यूट करने वाला सर्विस सेक्टर पिछले साल 8.9% सिकुड़ गया। फरवरी के मुकाबले हॉस्पिटैलिटी, फूड और बेवरेजेज बिजनेस का आउटपुट 55% से ज्यादा घट गया। मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर के प्रॉडक्शन में 8.6% जबकि कंस्ट्रक्शन सेक्टर में 12.5% की गिरावट आई।

सरकार लॉकडाउन की सख्ती कम करने के लिए कमजोर लोगों का तेजी से वैक्सीनेशन कर रही है। बुधवार तक 1.35 करोड़ लोगों यानी लगभग 20% आबादी को कोविड-19 के टीके का एक डोज मिल गया था।

ब्रिटेन को मुश्किल दौर से उबार लेगा वैक्सीनेशन
बैंक ऑफ इंग्लैंड के चीफ इकोनॉमिस्ट एंडी हैल्डेन ने कहा कि टीकाकरण से देश कोविड के खिलाफ जंग का एक मुश्किल दौर पार कर लेगा। उन्होंने कहा कि पाबंदियां घटने पर कंज्यूमर्स और कंपनियों की तरफ से खरीदारी निकलेगी और तेज रिकवरी को बढ़ावा मिलेगा।

उन्होंने डेली मेल में लिखा है कि बड़े पैमाने पर दबी मांग निकलने पर इकोनॉमी मुश्किल दौर से निकल जाएगी।