काम की बात:KYC या अकाउंट अपडेशन के नाम पर किसी से भी शेयर न करें UPI पिन, ऑनलाइन फ्रॉड से बचाएंगे ये 5 तरीके

नई दिल्ली8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

अगर ऑनलाइन पेमेंट ने कैशलेस लेनदेन को आसान बना दिया है, तो वहीं दूसरी ओर इससे ऑनलाइन फ्रॉड की घटनाएं भी तेजी से बढ़ रही हैं। UPI पेमेंट धोखाधड़ी इन दिनों एक आम बात हो गई है। हालांकि अगर हम ऑनलाइन UPI पेमेंट करते समय कुछ आसान सावधानियां रखें तो धोखाधड़ी से बच सकते हैं। हम आपको ऐसी 5 बातें बता रहे हैं जिनसे आप अपने UPI पेमेंट को सुरक्षित बना सकते हैं।

UPI और UPI पिन शेयर न करें
अपना UPI और UPI पिन किसी के साथ शेयर न करें। बैंक या कोई भी अन्य सरकारी संस्था कभी भी आपसे UPI और UP पिन नहीं पूछते। देखा जाता है कि फ्रॉड करने वाले लोग KYC या आपके अकाउंट के अपडेशन के नाम पर आपका UPI और UPI पिन मांगे हैं। ऐसे में ऐसे फोन कॉल्स या मैसेज से सावधान रहें।

मोबाइल या लैपटॉप का एक्सेस न दें
आपको अपने मोबाइल या लैपटॉप का एक्सेस कस्टमर केयर सेंटर को देने की जरूरत नहीं है। अगर कोई आपके बैंक अकाउंट में KYC के नाम पर आपके मोबाइल फोन या कंप्यूटर का एक्सेस लेना चाहता है तो संभल जाएं। ये भी ऑनलाइन फ्रॉड कर नया तरीका है।

फर्जी साइट्स से बचें
ऐसी वेबसाइट पर लेन-देन न करें जो आपको रिवार्ड या पैसे आदि का लालच दिया जा सकता है। कई बार देखा जाता है कि यहां UPI ट्रांजैक्शन के जरिए सिर्फ 1 रुपए ट्रांजैक्शन करने का मैसेज आता है। यहां वास्तव में आपसे 1 रुपए लेकर आपको 2 रुपए वापस भेजते हैं और उसके जरिए आपका UPI पिन हासिल करने की कोशिश करते हैं।

एक बार उनके पास आपका पिन हो जाने के बाद, वे तुरंत खाते से पैसे निकाल सकते हैं। इसीलिए किसी भी लेनदेन को शुरू करने से पहले हमेशा ये सुनिश्चित करें कि UPI सही खाता धारक से जुड़ा हुआ है।

UPI पिन चेंज करते रहें
आपको हर महीने अपने UPI पिन को बदलते रहना चाहिए। अगर आप हर महीने से नहीं बदल सकते तो हर तिमाही UPI पिन एक बार जरूर बदल लें।

UPI लिमिट सेट करें
आप UPI ट्रांजैक्शन के लिए डेली लिमिट सेट कर भी UPI फ्रॉड से बच सकते हैं। यानी अगर आप 1 हजार की लिमिट सेट करते हैं तो एक दिन में आप UPI के जरिए इससे ज्यादा की शॉपिंग या फंड ट्रांसफर नहीं की सकेंगे। इससे फ्रॉड होने पर भी आप बड़े नुकसान से बच सकेंगे।