लोन मामला / माल्या ने कहा- बैंक और मोदी अलग-अलग बात कर रहे, किस पर विश्वास करें

X

  • विजय माल्या ने ट्वीट किया- प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हमने माल्या से ज्यादा रिकवरी कर ली
  • माल्या ने एक ट्वीट करते हुए जेट एयरवेज के फाउंडर नरेश गोयल के प्रति सहानुभूति भी जताई

Apr 18, 2019, 04:20 PM IST

नई दिल्ली. विजय माल्या ने एक बार फिर सोशल मीडिया पर ट्वीट कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर टिप्पणी की है। विजय माल्या ने ट्वीट किया है, 'भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुद एक इंटरव्‍यू में कहा है कि कथित तौर पर विजय माल्या ने जितना धन सरकारी और निजी बैंकों से कर्ज लिया है, उनकी सरकार ने उससे ज्यादा रिकवर कर लिया है। जबकि, बैंकों का कोर्ट में दावा अलग है। किस पर विश्वास किया जाए? कोई एक तो झूठ बोल रहा है।'

माल्या ने कहा- एयर इंडिया के लिए जनता की राशि इस्तेमाल हुई

माल्या ने 29 मार्च को एक न्यूज चैनल को दिए इंटरव्यू का हवाला दिया है। इस इंटरव्यू में मोदी ने कहा था कि माल्या पर बैंकों का 9000 करोड़ रुपए का कर्ज बकाया है और हमने अब तक उसकी विश्वभर की समस्त सम्पत्तियों को जब्त करते हुए 14,000 करोड़ रुपए वसूल कर लिए हैं। मोदी ने कहा था कि माल्या चिंतित है, क्योंकि हमने उससे लगभग दोगुना वसूल कर लिया है।

इससे पहले विजय माल्या ने 16 अप्रैल को एक ट्वीट करते हुए जेट एयरवेज के फाउंडर नरेश गोयल के प्रति सहानुभूति भी जताई थी। उन्होंने सरकार पर निजी और सरकारी एयरलाइन कंपनियों के बीच भेदभाव करने का आरोप लगाया। माल्या ने लिखा, जेट एयरवेज किंगफिशर एयरलाइन की कॉम्पिटीटर थी, लेकिन इतनी बड़ी एयरलाइन अब डूबने की कगार पर है। यह देखकर दुख हो रहा है।
 

देश छोड़कर भागा माल्या लंदन में रह रहा है। उसने कहा कि सरकार ने एयर इंडिया के बेलआउट के लिए 35 हजार करोड़ रुपए की जनता की राशि इस्तेमाल की। वो सरकारी है सिर्फ इसलिए भेदभाव नहीं होना चाहिए। भारत में कई एयरलाइन नाकाम हो चुकी हैं। आखिर ऐसा क्यों? किंगफिशर ने सरकारी बैंकों से कर्ज लिया, यह सही है। लेकिन, मैंने 100% राशि लौटाने का प्रस्ताव दिया, इसके बावजूद मुझे अपराधी ठहराया जा रहा है।

सरेंडर की बात करते हुए माल्या ने कहा कि मीडिया कहता है कि मैं भारत प्रत्यर्पण से डरा हुआ हूं। मैं लंदन में रहूं या भारत की जेल में, कर्ज चुकाने को तैयार हूं। बैंक मेरा प्रस्ताव स्वीकार क्यों नहीं करते?

माल्या पर भारतीय बैंकों के 9,000 करोड़ रुपए बकाया हैं। मार्च 2016 में वह लंदन भाग गया। वहां की निचली अदालत और गृह विभाग माल्या के प्रत्यर्पण की मंजूरी दे चुके हैं। प्रत्यर्पण के खिलाफ माल्या की पहली अपील को हाईकोर्ट खारिज कर चुका है। भारत की विशेष अदालत (पीएलएलए) माल्या को भगोड़ा घोषित कर चुकी है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना