पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Business
  • Deepinder Goyal Net Worth: Zomato IPO Launch Date | How Did Zomato Founder Deepinder Goyal Start Up Zomato

जोमैटो की कहानी:आपका पेट भरने वाला जोमैटो अब जेब भी भरेगा, आज से खुलेगा 9,375 करोड़ रुपए का IPO

मुंबई2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

निवेशकों के लिए पब्लिक इश्यू के लिहाज से आज यानी 14 जुलाई का दिन खास है। इसी दिन ऑनलाइन फूड डिलीवरी कंपनी जोमैटो (Zomato) का IPO खुलेगा, जो 16 जुलाई तक खुला रहेगा। इसके जरिए कंपनी 9,375 करोड़ रुपए जुटाने की तैयारी में है।

जोमैटो को स्टार्ट करने की कहानी भी काफी खास है, तो आइए जानते हैं...
जोमैटो को दीपेंदर गोयल ने अपने ऑफिस के दोस्त पंकज चड्ढा के साथ मिलकर 2008 में लॉन्च किया था। हुआ यूं कि दीपेंदर रोजाना की तरह दफ्तर गए थे और कैंटीन में खाने के मेन्यू का इंतजार कर रहे थे। उन्हें महसूस हुआ कि मेन्यू में काफी समय लग रहा है।

फिर उन्होंने खाने का मेन्यू स्कैन करके इंटरनेट पर डाला, तो लोगों को यह काफी पसंद आया। यहीं से उन्हें एक ऐसी वेबसाइट का आइडिया आया, जिसमें लोगों को आसपास के रेस्टोरेंट की जानकारी मिल सके। दीपेंदर ने पंकज के साथ मिलकर साल 2008 में फूडीबे खोला, जिसका नाम 2010 में बदलकर जोमैटो कर दिया गया।

कैसे काम करती है जोमैटो?
जोमैटो, एक ऑन लाइन रेस्टोरेंट एग्रीगेटर है, जो ग्राहकों को रेस्टोरेंट से खाना और ग्रॉसरी की होम डिलीवरी करती है। वेबसाइट में रेस्टोरेंट के मेन्यू से लेकर उसका रिव्यू भी होता है। साथ ही रेस्टोरेंट के लिए मार्केटिंग भी करती है। इसके लिए जोमैटो ने हर शहर के रेस्टोरेंट के साथ करार किया।

देश-विदेश में फैला है कारोबार
जोमैटो का कारोबार देश में दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरु, चेन्नई, पुणे और कोलकाता समेत कई प्रमुख शहरों में है। इसके अलावा विदेश में जोमैटो की सर्विस UAE, फिलीपींस, साउथ अफ्रीका, न्यूजीलैंड, तुर्की, ब्राजील और इंडोनेशिया, पुर्तगाल, कनाडा, आयरलैंड में है। इसके अलावा ऑस्ट्रेलिया और US में भी जोमैटो का कारोबार फैला हुआ है।

जोमैटो पर 2,400 करोड़ रुपए का कर्ज
कंपनी के फाइनेंशियल प्रोफाइल को देखें, तो इसका कुल रेवेन्यू फाइनेंशियल ईयर 2017-18 में 487 करोड़ रुपए था, जो 2020-21 में बढ़कर 2,743 करोड़ रुपए हो गया। फिलहाल कंपनी 2,385 करोड़ रुपए के घाटे में है। कंपनी ने कर्ज भुगतान और सामान्य कॉर्पोरेट जरूरतों के लिए पब्लिक इश्यू लाने का फैसला लिया और मार्केट रेगुलेटर सेबी के पास अर्जी दी।

मंजूरी मिलने के बाद जोमैटो ने IPO लॉन्चिंग के लिए 14-16 जुलाई का दिन चुना है। एक्सचेंज फाइलिंग के मुताबिक, IPO में निवेश के लिए प्रति शेयर 72 से 76 रुपए प्राइस तय की गई है। 195 शेयरों का एक लॉट होगा, जिसके लिए अप्लाई कर सकते हैं। हालांकि, रिटेल निवेशक अधिकतम 13 लॉट के लिए ही अप्लाई कर सकता है। सेबी के नियमों के मुताबिक, 2 लाख रुपए से ज्यादा का निवेश आप नहीं कर सकते हैं।

एंकर निवेशकों से जुटाए 4200 करोड़ रुपए
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, कंपनी ने IPO की लॉन्चिंग से एक दिन पहले एंकर निवेशकों से 560 मिलियन डॉलर (4170 करोड़ रुपए) जुटाए। इसके लिए संस्थागत निवेशकों ने प्रति शेयर 76 रुपए का भुगतान किया।

कंपनी में इन्फो एज की सबसे ज्यादा हिस्सेदारी
जोमैटो में अभी कोरा मैनेजमेंट, टाइगर ग्लोबल मैनेजमेंट, फिडेलिटी समेत इन्फो एज का निवेश है। कंपनी में सबसे बड़ी हिस्सेदारी (18.4%) इन्फो एज की है, जो ऑफर फॉर सेल के जरिए 375 करोड़ रुपए के शेयर बेचेगी।