• Hindi News
  • Career
  • 23 New Offices Of IDP Opened In A Single Day In India, The Path Of Students' Career Has Become Easier Through Virtual And Personal Means

आईडीपी का हुआ विस्तार:एक ही दिन में आईडीपी के 23 नए कार्यालय खुले, वर्चुअल और व्यक्तिगत माध्यमों से आसान हुई स्टूडेंट्स के करिअर की राह

14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

आईडीपी विदेश में पढ़ने संबंधी सेवाएं देने वाली टॉप संस्था है। यह ऑस्ट्रेलिया की एएसएक्स-लिस्टेड कंपनी है। आईडीपी 50 से अधिक देशों में सेवारत है। यह एक प्रमुख डिजिटल प्लेटफॉर्म के साथ मानवीय विशेषज्ञता के तालमेल से विद्यार्थियों को उनके लिए सबसे उपयुक्त कोर्स चुनने में मदद करती है।

नए कार्यालय खोल कर एक गौरवशाली इतिहास रचा

10 जनवरी 2022 दुनिया के सबसे प्रमुख अंतर्राष्ट्रीय शिक्षा सेवा संगठन आईडीपी ने पूरे भारत में एक साथ 23 नए कार्यालय खोल कर एक गौरवशाली इतिहास रचा है। इसके नए कार्यालय गांधीनगर, आनंद, रायपुर, शिमला, कुरुक्षेत्र, जम्मू, त्रिची, त्रिशूर, पटना, गुवाहाटी, कालीकट, आगरा, जोधपुर, कानपुर, वाराणसी, प्रयागराज, मेरठ, हुबली, वारंगल, तिरुपति, काकीनाडा, गोवा और नासिक में खुले हैं। इसके साथ आईडीपी के अब भारत के 60 शहरों में 67 कार्यालय हो गए। इनके अतिरिक्त आईडीपी इंडिया के 24 वर्चुअल कार्यालय भी हैं ताकि देश के किसी भी हिस्से से विद्यार्थियों के लिए आईडीपी के विशेषज्ञों से संपर्क-संवाद करना आसान हो।

एक्सपर्ट देंगे तमाम सुविधाएं

इन नए कार्यालयों से विद्यार्थियों को वर्चुअल और व्यक्तिगत दोनों माध्यमों से विश्वस्तरीय परामर्श आसानी से मिलेगा। वे ऑस्ट्रेलिया, अमेरिका, ब्रिटेन, कनाडा, न्यूजीलैंड और आयरलैंड के प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों और संस्थानों में पढ़ने का सपना पूरा कर पाएंगे। विदेश में पढ़ने में सहायक एक्सपर्ट उन्हें तमाम सुविधाएं देंगे जैसे कोर्स और विश्वविद्यालय चुनना, आवेदन करना, ऑफर स्वीकार करना, वीजा सहायता, आवास ढूंढ़ना, स्वास्थ्य बीमा के लिए आवेदन करना, बैंक खाता खोलना आदि।

दूर-दराज के हिस्सों तक बन रही पहुंच

आईडीपी एडुकेशन के क्षेत्रीय निदेशक (दक्षिण एशिया और मॉरीशस) पीयूष कुमार ने इस अवसर पर कहा, ‘‘भारत में हमारे 23 नए कार्यालय खुलने की घोषणा करते हुए हम बहुत उत्साहित हैं। ग्लोबल लीडर होने के नाते हम ने पूरे भारत में सर्वश्रेष्ठ अंर्तराष्ट्रीय शिक्षा आसान करने का बीड़ा उठाया है। अब हम देश के दूर-दराज के हिस्सों तक अपनी पहुंच बना रहे हैं।

हम देश के कोने-कोने में अपने विशेषज्ञ का मार्गदर्शन आसान कराने के लिए लगातार काम कर रहे हैं ताकि अधिक से अधिक विद्यार्थियों को सोच-समझ कर सही निर्णय लेने में आसानी हो। हमारा मकसद उन्हें सही संसाधन और सूचना देना है। हम ने सबसे पहले विद्यार्थियों के हित का ध्यान रखते हुए यह कदम उठाया है और विदेश में पढ़ने के उनके सपने पूरा करने के लिए विद्यार्थियों के अनुकूल दृष्टिकोण अपनाया है।’’