• Hindi News
  • Career
  • CUET In DU Possible In The Second Or Third Week Of July, 15 Minutes Extra Time Will Be Given To PWBD Students

DU Admissions 2022:डीयू में सीयूईटी जुलाई के दूसरे या तीसरे हफ्ते में संभव, पीडब्ल्यूबीडी स्टूडेंट्स को मिलेगा 15 मिनट का एक्स्ट्रा टाइम

10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

दिल्ली यूनिवर्सिटी में कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेंस टेस्ट 2022 के लिए उपस्थित होने वाले पीडब्ल्यूबीडी स्टूडेंट्स को परीक्षा के दौरान अतिरिक्त समय दिया जाएगा। डीयू ने कहा है कि पीडब्ल्यूबीडी उम्मीदवारों को सीयूईटी 2022 का पेपर सॉल्व करने के लिए अतिरिक्त समय मिलेगा।

इसके अनुसार, इन उम्मीदवारों को एग्जाम के हर सेक्शन को हल करने के लिए अतिरिक्त 15 मिनट मिलने की उम्मीद है। सीयूईटी की तारीख अभी घोषित नहीं की गई है। यह परीक्षा जुलाई के दूसरे या तीसरे सप्ताह में आयोजित होने की संभावना है। इसके लिए रजिस्ट्रेशन की तारीख आगे बढ़ाकर 22 मई कर दी गई है।

सामान्य उम्मीदवारों को मिलेगा 45 मिनट का समय

यह जानकारी एक वेबिनार को संबोधित करते हुए, हनीत गांधी, डीन एडमिशन ने दी और कहा कि PwBD ( 40 प्रतिशत या अधिक की दिव्यांगता वाले व्यक्ति) जिनको स्पीड में लिखने के लिए शारीरिक समस्याओं का करना पड़ता हैं, केवल उन्हें इस सुविधा की अनुमति दी जाएगी। उन्होंने कहा कि सामान्य उम्मीदवारों को परीक्षा के सेक्शन 1ए और 1बी के लिए 45 मिनट का समय दिया जाएगा। हालांकि, PwBD उम्मीदवारों के लिए हर अनुभाग के लिए अतिरिक्त 15 मिनट का समय दिया जाएगा।

PwBD उम्मीदवारों को 20 मिनट अतिरिक्त दिया जाएगा

सेक्शन II में डोमेन-विशिष्ट विषय के लिए अतिरिक्त 15 मिनट का समय स्टूडेंट्स को दिया जाएगा। इसके अलावा सेक्शन III के लिए, जो कि सामान्य परीक्षा है, एक सामान्य उम्मीदवार को 60 मिनट का समय मिलेगा, लेकिन PwBD उम्मीदवारों के लिए 20 मिनट अतिरिक्त दिया जाएगा।

डीयू में सीयूईटी के माध्यम से मिलेगा एडमिशन

CUET परीक्षा चार भागों में आयोजित की जाएगी। इसके अनुसार, सेक्शन IA (13 भाषाएं), सेक्शन IB (20 भाषाएं), सेक्शन II (27 डोमेन विशिष्ट विषय) और सेक्शन III (सामान्य परीक्षा)। इस साल से दिल्ली विश्वविद्यालय सीयूईटी के माध्यम से यूजी प्रोग्राम में प्रवेश देगा।

इससे पहले तक दिल्ली विश्वविद्यालय 12वीं की बोर्ड परीक्षा में मिलने वाले अंकों के आधार पर छात्रों को प्रवेश दिया जाता रहा है, जिससे कई बार छात्र-छात्राओं को केवल बोर्ड परीक्षा में कम अंक आने की वजह से डीयू में एडमिशन नहीं मिल पाता था। लेकिन सीयूईटी की वजह से अब स्टूडेंट्स की यह मुश्किल खत्म हो जाएगी।