पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Career
  • Data Of Out of school Children Will Be Compiled Through Online Module, Children Of Socially And Economically Disadvantaged Will Get Financial Assistance

ऑनलाइन डेटा मॉड्यूल:स्कूल न जाने वाले बच्चों का डेटा ऑनलाइन मॉड्यूल के जरिए होगा कंपाइल, सामाजिक और आर्थिक रूप से वंचित के बच्चों को मिलेगी वित्तीय सहायता

3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

स्कूल शिक्षा और साक्षरता विभाग ने स्कूल ना जाने वाले बच्चों के डेटा को कंपाइल करने के लिए एक ऑनलाइन मॉड्यूल तैयार किया है। इस ऑनलाइन मॉड्यूल के तहत प्रत्येक राज्य और केंद्र शासित प्रदेश के 6-14 साल के आयु वर्ग के बच्चों और सामाजिक और आर्थिक रूप से वंचित समूहों के बच्चों के डेटा को कंपाइल किया जाएगा।

वहीं, 16-18 साल आयु वर्ग के स्कूली बच्चों को ओपन/डिस्टेंस लर्निंग मोड के जरिए उनकी शिक्षा जारी रखने के लिए एकेडमिक 2021-22 में पहली बार वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी।

स्कूल न जाने वाले बच्चों को लाया जाएगा वापस

इस ऑनलाइन मॉड्यूल के जरिए स्कूल न जाने वाले बच्चों को स्कूलों में वापस लाना सुनिश्चित किया जाएगा। इस बारे में केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल 'निशंक' ने जानकारी दी कि, "भारत के हर छात्र का ख्याल रखना हमारी सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। इसके लिए स्कूल शिक्षा और साक्षरता विभाग ने प्रत्येक राज्य / केंद्र शासित प्रदेश द्वारा पहचाने गए स्कूल से बाहर के बच्चों के डेटा को कंपाइल करने के लिए एक ऑनलाइन मॉड्यूल तैयार किया है। इसे PRABANDH पोर्टल पर स्पेशल ट्रेनिंग केंद्रों के साथ मैप किया गया है।"

पहली बार वंचित समूहों के बच्चों को मिलेगी वित्तीय सहायता

इस बार में जारी ऑफिशियल बयान में कहा गया कि स्कूल न जाने वाले बच्चों की और स्पेशल ट्रेनिंग सेंटर (STCs) की जानकारी को संबंधित ब्लॉक रिसोर्सेज सेंटर (BRC) के ब्लॉक रिसोर्सेज कोऑर्डिनेटर की देखरेख में ब्लॉक स्तर पर अपलोड करना आवश्यक होगा। बयान में यह भी कहा गया कि, "16-18 वर्ष की उम्र के स्कूली बच्चों और सामाजिक और आर्थिक रूप से वंचित समूहों के बच्चों के लिए, साल 2021-22 से पहली बार वित्तीय सहायता उपलब्ध कराई जाएगा, जिससे उन्हें शिक्षा को ओपन / डिस्टेंस लर्निंग मोड में जारी रखने में मदद मिल सकें।