• Hindi News
  • Career
  • Every College Affiliated To DU Will Release Cut Off List On Its Website Tomorrow, Candidates Can Apply Between 11 To 13 October 2021

DU 2nd Cut-off 2021:डीयू से एफिलिएटेड कॉलेज कल अपनी वेबसाइट पर कट ऑफ लिस्ट जारी करेंगे, कैंडिडेट्स 11 से 13 अक्टूबर 2021 के बीच कर सकते हैं आवेदन

12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

दिल्ली विश्वविद्यालय 9 अक्टूबर 2021 यानी कल अंडर ग्रेजुएट (UG) एडमिशन के लिए दूसरी कट-ऑफ लिस्ट जारी करेगा। डीयू से एफिलिएटेड हर कॉलेज अपनी-अपनी वेबसाइटों पर अलग-अलग लिस्ट जारी करेंगे।आर्ट्स, साइंस और कॉमर्स स्ट्रीम के लिए कंसोलिडेटेड लिस्ट admission.uod.ac.in पर जारी की जाएगी।

कैंडिडेट्स को 11 से 13 अक्टूबर 2021 के बीच दूसरी कट-ऑफ लिस्ट के तहत एडमिशन के लिए आवेदन करना होगा। डीयू द्वारा शेयर किए गए आंकड़ों के अनुसार पहली कट-ऑफ लिस्ट के तहत तीन दिनों में 60904 आवेदन प्राप्त हुए, जिनमें से 7 अक्टूबर को 14205 आवेदनों को मंजूरी दी गई और 27006 छात्रों ने एडमिशन फीस का भुगतान किया।

हिंदू कॉलेज में इन प्रोग्राम्स की सीटें हुई फुल

हिंदू कॉलेज दूसरी लिस्ट में शामिल ज्यादातर साइंस प्रोग्राम सहित पॉलिटिकल साइंस, हिस्ट्री, हिंदी और कुछ अन्य प्रोग्राम्स में एडमिशन नहीं देगा। यहां की प्रिंसिपल अंजू श्रीवास्तव ने बताया कि दूसरी कट ऑफ लिस्ट में अनरिजर्व्ड कैटेगरी के लगभग सभी कोर्स बंद रहेंगे।

प्रो श्रीवास्तव ने बताया कि, "हम राजनीति विज्ञान (ऑनर्स), इतिहास (ऑनर्स), हिंदी (ऑनर्स), बीए प्रोग्राम, फिलॉसफी (ऑनर्स), आदि और लगभग सभी साइंस कोर्सेस में एडमिशन बंद कर देंगे। मुझे लगता है कि हमारे पास बीए (ऑनर्स) अर्थशास्त्र और बीकॉम (ऑनर्स) में सीटें बची होंगी। “

मिरांडा हाउस में पॉलिटिकल साइंस, केमिस्ट्री कोर्सेस की सीटें भरी

शिक्षा मंत्रालय द्वारा मिरांडा हाउस को देश में बेस्ट कॉलेज का दर्जा दिया गया है। इस कॉलेज में भी पॉलिटिकल साइंस, कैमेस्ट्री, फिजिक्स और जूलॉजी कोर्सेस के लिए दूसरी कट ऑफ नहीं होगी। प्रिंसिपल डॉ बिजयलक्ष्मी नंदा ने कहा कि मिरांडा हाउस में लगभग 1600 एडमिशन हो चुके हैं। इसके साथ ही प्रिंसिपल ने कहा कि समाजशास्त्र, इतिहास, अर्थशास्त्र और बीए प्रोग्राम के कुछ कॉम्बिनेशन जैसे कोर्सेस में सीटें बची रहेंगी।

इस साल, लगभग सभी कोर्सेस में कट-ऑफ पिछले साल की तुलना में ज्यादा है। कुछ कॉलेज पॉपुलर कोर्सेस के लिए 100 प्रतिशत मांग रहे हैं। कॉलेजों ने इंफॉर्म किया है कि 100 प्रतिशत अंकों वाले कई छात्रों ने पहले ही अपने एडमिशन को कंफर्म कर दिया है। हालांकि, हाई कट-ऑफ के बावजूद, 90 प्रतिशत या उससे कम वाले छात्रों को हिंदी और संस्कृत सहित कुछ कोर्सेस में एडमिशन मिल सकता है।