पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Career
  • Group Of Teachers In Mumbai Started Mobile Library For Needy Children Who Are Unable To Attend Online Class Due To Lack Of Smatphone, 22 Students Are Taking Classes Daily With Corona Guidelines

पहल:ऑनलाइन क्लास से दूर गरीब बच्चों के लिए मुंबई के शिक्षकों ने की मोबाइल लाइब्रेरी की शुरुआत, कोरोना गाइडलाइंस के साथ रोजाना क्लास ले रहे 22 स्टूडेंट्स

9 महीने पहले

देशभर फैले में कोरोना वायरस ने ना सिर्फ कामकाज और कारोबार बंद करवा दिए, बल्कि सभी स्कूलों पर भी ताला लगा दिया है। संक्रमण के डर से पैरेंट्स बच्चों को स्कूल भेजने के लिए तैयार नहीं है, ऐसे में सभी बच्चे अपने-अपने घरों में कैद हैं। वहीं, लॉकडाउन और कोरोना के कारण पढ़ाई को हो रहे नुकसान के बीच ऑनलाइन क्लासेस की मदद ली जा रही है। लेकिन कई ऐसे भी स्टूडेंट्स है, जिनकी स्मार्टफोन्स तक पहुंच नहीं है। ऐसे में ऑनलाइन क्लास से वंचित रह गए जरूरतमंद बच्चों के लिए मुंबई में एक संगठन ने बेहतरीन पहल की है।

अभी तक 22 स्टूडेंट्स बन चुके हिस्सा

मुंबई म्यूनिसिपल एंड प्राइवेट उर्दू टीचर्स यूनियन ने पहली से 10वीं के स्टूडेंट्स के लिए शहर के इमामवाड़ा क्षेत्र में एक फ्री मोबाइल लाइब्रेरी की शुरुआत की है। आर्थिक रूप से कमजोर ऐसे छात्र जो मोबाइल फोन नहीं खरीद सकते, वे इस लाइब्रेरी में आकर ऑनलाइन क्लासेस का हिस्सा बन सकते हैं। यूनियन की इस पहल का अब कई स्टूडेंट्स फायदा उठाने लगे हैं। अभी तक 22 स्टूडेंट्स ने मोबाइल लाइब्रेरी के जरिए क्लासेज ली हैं।

सुबह 8 से दोपहर 3 बजे तक होती है क्लास

सेंटर की इन-चार्ज शाहिना सईद ने बताया कि लाइब्रेरी में आने वाले कुछ स्टूडेंट्स के पास या तो मोबाइल फोन नहीं था या फिर उनके परिवार में सिर्फ एक मोबाइल फोन ही मौजूद था। ऐसे में इन बच्चों को ध्यान में रखकर ही हमने यह पहल शुरू की सोची। मोबाइल लाइब्रेरी के जरिए बच्चों ने ऑनलाइन पढ़ाई की और अपना सिलेबस पूरा किया। उन्होंने बताया कि यहां ऑनलाइन क्लासेस सुबह 8 से दोपहर 3 बजे तक आयोजित होती हैं। साथ ही कोविड-19 की गाइडलाइंस का पालन किया जा रहा है।