• Hindi News
  • Career
  • Students Should Answer The Questions According To The Respective Subject, Evaluation Will Not Be More Than The Answers Fixed In The Examination.

CBSE Term-1 Exam 2021-22:स्टूडेंट्स संबंधित विषय के अनुसार ही दें प्रश्नों के उत्तर, परीक्षा में तय किए गए जवाबों से ज्यादा का नहीं होगा मूल्यांकन

6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के टर्म-1 परीक्षा में हिन्दी में कुल 55 प्रश्न रहेंगे। इसमें से 45 का उत्तर देना होगा। वहीं मैथ्स में 50 प्रश्न में से 40 का उत्तर देना है। इसी तरह हर विषय के लिए अलग-अलग प्रश्नों की संख्या तय की गई है। बोर्ड के अनुसार, ओएमआर पर 60 प्रश्नों का गोला बना हुआ है लेकिन छात्रों को उतने ही प्रश्न का जवाब देना है, जितने प्रश्न संबंधित विषय में निर्धारित किए गए हैं।

ये प्रश्न दो सेक्शन में रहेंगे। सेक्शन-ए 18 और सेक्शन-बी में 15 प्रश्न का उत्तर देना है। हर केंद्र पर कुल ओएमआर के 20 फीसदी की फिर से जांच की जाएगी। इसमें एग्जामिनर द्वारा किये गये मूल्यांकन को देखा जायेगा। हर ओएमआर की तीन लेवल पर जांच होगी।

परीक्षा नियंत्रक, सीबीएसई, संयम भारद्वाज ने कहा - 'हर विषय में अलग-अलग प्रश्न निर्धारित किए गए हैं। एग्जामिनर को संबंधित विषय के अनुसार ही प्रश्नों का उत्तर देना है। अगर छात्र अधिक प्रश्न का उत्तर देंगे तो उन्हें इसका कोई फायदा नहीं होगा। हर सेक्शन से प्रश्न का उत्तर देना जरूरी है'।

परीक्षा से जुड़ी ये बातें जानना जरूरी

- पीटी, आर्ट और डांस टीचर भी करेंगे मूल्यांकन।

- 12वीं कक्षा के शिक्षक को दसवीं कक्षा के ओएमआर मूल्यांकन में लगाया जायेगा।

-- असिस्ट्रेंट सुप्रीटेंडेंट को भी मूल्यांकन में लगाया जायेगा।

- इंटरचेंज करके मूल्यांकन के लिए एग्जामिनर रख सकते हैं।

- हर ओएमआर पर एग्जामिनर व आर्ब्जबर का साइन होगा।

- प्रश्न पत्र के साथ मूल्यांकन करेंगे एग्जामिनर।

इंटरचेंज करके भी टीचर बनेंगे एग्जामिनर

पहले दो स्कूल आपस में इंटरचेंज करके टीचर को एग्जामिनर नहीं बना सकते थे। यानी जिस स्कूल के परीक्षार्थी जिस केंद्र पर परीक्षा देंगे, उस स्कूल के टीचर वहां पर निरीक्षक नहीं होंगे। लेकिन बोर्ड ने अब इसमें बदलाव कर दिया है।