• Hindi News
  • Career
  • The Total Number Of Engineering Seats In The Country Decreased In The Last Decade, About 50 Engineering Colleges Were Closed Every Year: AICTE

इंजीनियरिंग सीटों में भारी गिरावट:बीते एक दशक में सबसे कम हुई देश में इंजीनियरिंग सीटों की कुल संख्या, हर साल करीब 50 इंजीनियरिंग कॉलेज बंद हुए

3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

ऑल इंडिया काउंसिल फॉर टेक्निकल एजुकेशन (AICTE) के हाल ही में जारी आंकड़ो के मुताबिक देश की इंजीनियरिंग इंस्टीट्यूट्स में सीटों की कुल संख्या एक दशक में सबसे कम हो गई है। जारी आंकड़ों के मुताबिक ग्रेजुएट, पोस्ट ग्रेजुएट और डिप्लोमा स्तर पर इंजीनियरिंग सीटों की संख्या घटकर 23.28 लाख रह गई है, जो कि बीते 10 सालों में सबसे कम है।

इस साल सीटों में 1.46 लाख की हुई गिरावट

दरअसल, इंस्टीट्यूट्स के बंद होने और एडमिशन में हुई कमी के कारण इस साल सीटों में 1.46 लाख की गिरावट देखने को मिली है। हालांकि, सीटों की संख्या हुई कमी के बावजूद, इंजीनियरिंग अभी भी देश में टेक्निकल एजुकेशन की फील्ड में कुल सीटों का 80 प्रतिशत है। 2014-15 में, सभी AICTE मान्यता प्राप्त इंस्टीट्यूट्स में इंजीनियरिंग की करीब 32 लाख सीटें थीं। सीटों में गिरावट की शुरुआत सात साल पहले हुई थी, जब कॉलेज बंद होना शुरू हुए थे। तब से करीब इंजीनियरिंग के कुल 400 कॉलेज बंद हो चुके हैं।

हर साल तकरीबन 50 इंस्टीट्यूट्स बंद हुए

साल 2015-16 से हर साल करीब 50 इंजीनियरिंग इंस्टीट्यूट बंद हुए हैं। हीं, इस साल की बात करें तो AICTE इस साल करीब 63 इंस्टीट्यूट को बंद करने की मंजूरी दी है। साल 2019 में, AICTE ने 2020-21 से शुरू होने वाले नए संस्थानों को दो साल की मोहलत देने की घोषणा की थी। यह फैसला आईआईटी-हैदराबाद के अध्यक्ष बीवीआर मोहन रेड्डी की अध्यक्षता वाली एक सरकारी समिति की सिफारिश पर किया गया था। नए इंजीनियरिंग संस्थान स्थापित करने के लिए तकनीकी शिक्षा नियामक की मंजूरी का आंकड़ा पांच साल के सबसे निचले स्तर पर है।