Hindi News »Chhatisgarh »Ambagarhchouki» वनांचल के 150 युवा 100 किमी की दूरी तय कर रोज ले रहे हैं योगासन की शिक्षा

वनांचल के 150 युवा 100 किमी की दूरी तय कर रोज ले रहे हैं योगासन की शिक्षा

योग को कॅरियर के रूप में अपनाने व योग शिक्षक बनने वनांचल के डेढ़ सौ से अधिक युवक व युवतियां ब्लाॅक मुख्यालय में...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jan 15, 2018, 02:10 AM IST

योग को कॅरियर के रूप में अपनाने व योग शिक्षक बनने वनांचल के डेढ़ सौ से अधिक युवक व युवतियां ब्लाॅक मुख्यालय में प्रशिक्षण ले रहे हैं। 25 दिवसीय योग शिक्षक प्रशिक्षण शिविर में रोजाना सूर्योदय से पहले ये युवा जुट रहे हैं। जो नियमित तीन-तीन घंटे योग के विभिन्न आसनों का गुर सीख रहे हैं।

भारत स्वाभिमान ट्रस्ट तथा पतंजलि योग समिति द्वारा नगर में 5 जनवरी से योग शिक्षक-प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया गया है। इस शिविर में अंबागढ़ चौकी ब्लाक के अलावा मोहला, मानपुर, डोंगरगांव व छुरिया ब्लाक के 150 से अधिक युवा शामिल हो रहे हैं। भविष्य में योग में करियर की पर्याप्त संभावना देखने वाले इन युवाओं में योग शिक्षक बनने को लेकर खासा उत्साह है।

शिविर में प्रशिक्षण प्राप्त करने को लेकर प्रशिक्षणार्थियों का उत्साह इस बात से ही प्रमाणित हो जाता है कि युवाएं प्रशिक्षण प्राप्त करने के लिए प्रतिदिन 50 से 100 किमी. की यात्रा कर पहुंच रहे है। इन युवाओं को प्रतिदिन पतंजलि योग समिति के दक्ष मास्टर ट्रेनर प्रशिक्षण दे रहे है। प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे बांधाबाजार के एकलव्य साहू व सोमदत्त साहू ने बताया कि इस प्रशिक्षण शिविर से उन्हें काफी लाभ प्राप्त हो रहा है। सबसे पहली बात यह है की इस प्रशिक्षण से ही उनकी दिनचर्या बदल गई है और उनके जीवन के लिए यह शिविर कई बदलाव लेकर आया है। इससे शरीर तो तंदुरूस्त रहता ही है मानसिक शांति भी मिलती है। उन्होंने बताया कि हमारी कोशिश रहेगी कि यहां से योग का प्रशिक्षण लेने के बाद हम अलग-अलग स्थानों पर पहुंचकर लोगों को योग से जोड़ सकें और इसका अधिक से अधिक प्रचार करेंगे। विशेषकर बच्चों को शुरू से ही इससे जोड़ने का प्रयास रहेगा।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Ambagarhchouki

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×