--Advertisement--

18 गांवों के लिए शुरू हुई समूह जल संयंत्र योजना के बाद भी बढ़ी समस्या

ब्लॉक के आर्सेनिक प्रभावित 18 ग्रामों के लिए शुरू की गई समूह जल संयंत्र योजना का लाभ प्रभावित गांवों के ग्रामीणों...

Danik Bhaskar | Feb 21, 2018, 03:10 AM IST
ब्लॉक के आर्सेनिक प्रभावित 18 ग्रामों के लिए शुरू की गई समूह जल संयंत्र योजना का लाभ प्रभावित गांवों के ग्रामीणों को बेहतर ढंग से नहीं मिल पा रहा है। पेयजल की समस्या बनी हुई है। ग्रामीणों की शिकायत है कि कहीं पर्याप्त मात्रा में पानी नहीं मिल रहा है तो कहीं शुद्ध पेयजल नहीं मिल रहा है। महीनों से मिल रही निरंतर शिकायतों के बाद भी समस्या के समाधान के लिए पीएचई विभाग के अधिकारी सक्रियता नहीं दिखा रहे हैं। इससे ग्रामीणों में आक्रोश बढ़ते जा रहा है।

ब्लाॅक के आर्सेनिक प्रभावित 18 ग्रामों में शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराने के लिए मुख्यमंत्री डाॅ. रमन सिंह ने अंबागढ़ चौकी में वर्ष 2016 में समूह जल संयंत्र योजना का शिलान्यास किया था। 28 करोड़ की लागत की इस योजना का लाभ बीते वर्ष से ग्रामीणों को मिलने लगा है, लेकिन योजना में गड़बड़ी तथा इसके बेहतर ढंग से क्रियान्वयन नहीं होने की शिकायतें मिलने लगी है।

अंबागढ़ चौकी. आर्सेनिक प्रभावित गांवों को योजना के बाद भी राहत नहीं।

पर्याप्त पानी नहीं आ रहा

आर्सेनिक प्रभावित गांवों के ग्रामीणों का कहना है कि जब से योजना के तहत अंबागढ़ चौकी से फिल्टर प्लांट से पानी देना शुरू किया है तब से गांवों में लोगों को पर्याप्त मात्रा में पानी नहीं मिल पा रहा है। संबंधित एजेंसी पर्याप्त पानी देने के स्थान पर खानापूर्ति कर रही है। कुछ ग्रामीणों की शिकायत है कि उन्हें शुद्ध पेयजल के स्थान पर गंदा पानी मिल रहा है। इससे लोगों के स्वास्थ्य में प्रतिकूल असर पड़ रहा है।

पेट संबंधी बीमारियां बढ़ी

सोनसायटोला की सरपंच नीतू कोलहारे एवं यहां के ग्रामीणों की शिकायत है कि उन्हें योजना के तहत पानी तो मिल रहा है, पर गंदा पानी आने से उनके गांवों के ग्रामीणों को पेट संबंधी बीमारियों का सामना करना पड़ रहा है। सरपंच सहित ग्रामीणों की शिकायत है कि व्यवस्था में सुधार तथा शुद्ध पेयजल आपूर्ति के लिए पीएचई विभाग के अधिकारियों तक अपनी समस्याएं पहुंचाई है पर समस्या दूर नहीं हुई।

चौकी में गंदा एवं कीड़े युक्त पानी की सप्लाई

समूह जल संयंत्र योजना का क्रियान्वयन अंबागढ़ चौकी नगर से हो रहा है। 18 आर्सेनिक प्रभावित गांवों में शुद्ध पेयजल मुहैया कराने चौकी में शिवनाथ नदी में एनीकट के समीप पानी टंकी एवं दंतेश्वरी पहाड़ी में फिल्टर प्लांट लगाया गया है। नगर के राजेश घीया, मिक्की घीया, भीमा तुलसानी, कलीमुद्दीन खान, कुमारी निषाद, कुमार राजपूत की शिकायत है कि नगरीय निकाय द्वारा जो पानी की आपूर्ति की जा रही है वह गंदा है तथा कई स्थानों में नलों से कीड़े निकल रहे हैं। नलों के पानी के उपयोग से उनके स्वास्थ्य मे प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है।

समस्या दूर करने प्रयास