अंबिकापुर

--Advertisement--

देश की एकता के सच्चे प्रतीक थे गांधी: प्रोफेसर अपूर्वानंद

अंबिकापुर| रेहाना फाउंडेशन द्वारा आयोजित गांधी सुमिरन कार्यक्रम में प्रख्यात विचारक एवं समाजसेवी दिल्ली...

Dainik Bhaskar

Feb 02, 2018, 02:00 AM IST
अंबिकापुर| रेहाना फाउंडेशन द्वारा आयोजित गांधी सुमिरन कार्यक्रम में प्रख्यात विचारक एवं समाजसेवी दिल्ली यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर अपूर्वानंद ने कहा कि गांधी की वैचारिकी बड़ी स्पष्ट थी। गांधी ने अपने आप में यह संकल्प किया कि वह जाति आधारित किसी भी व्यवस्था को गलत समझते हैं और वह इसे खत्म करके रहेंगे। प्रोफेसर अपूर्वानंद ने कहा कि गांधी एकता के सच्चे प्रतीक थे। उन्होंने शहादत का अर्थ बताते हुए कहा कि शहादत वह जो सच्ची गवाही दे और गांधी गवाही देते हैं इसीलिए गांधी शहीद है और वह शहादत देते हैं।

कार्यक्रम की शुरुआत और अंत में अंजनी पांडे ने गांधी के प्रिय भजनों की प्रस्तुति दी। रेहाना फाउंडेशन द्वारा गांधी जी की पुण्यतिथि के अवसर पर विचार गोष्ठी गांधी सुमिरन का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का संचालन करते हुए संस्था के जावेद खान ने कहा कि यदि गांधीजी की जिंदगी से हमें सबसे महत्वपूर्ण दिन चुनना हो तो वह दिन गांधीजी की पुण्यतिथि का दिन ही होगा, जिस दिन हम उनके जीवन की संपूर्णता का सार समझ सकते हैं। दिनेश कुमार शर्मा ने प्रोफेसर अपूर्वानंद को कार्यक्रम के लिए अंबिकापुर आने पर आभार जताया। इस दौरान त्रिभुवन सिंह, तपन बनर्जी, राम कुमार मिश्रा, प्रभु नारायण वर्मा, विजय गुप्त, अब्दुल रशीद सिद्दीकी, प्रदीप राय, कांत दुबे, राहुल जैन, पुनीत राय, बृजेश यादव, वंदना दत्ता, तृप्ति विश्वास, श्याम कश्यप बेचैन, अजय शुक्ला, नईम परवेज आदि उपस्थित थे। आयोजन को लेकर हरिकिशन शर्मा, शाहिद खान, विशाल श्रीवास्तव, अफरोज खान, अनुज शर्मा, तृप्तराज सिंह धंजल, केवल साहू, आशीष शर्मा, मोहसिम खान का सहयोग रहा।

X
Click to listen..