--Advertisement--

आरोप- दस लाख के सेनेटरी पार्क के टेंडर पर 75 लाख खर्च

सामान्य सभा में बजट से पहले ही दोनों पक्षों में जमकर तकरार हुई। विपक्षी पार्षदों ने भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए...

Dainik Bhaskar

Apr 01, 2018, 02:00 AM IST
सामान्य सभा में बजट से पहले ही दोनों पक्षों में जमकर तकरार हुई। विपक्षी पार्षदों ने भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए मेयर और डिप्टी मेयर पर भी हमला बोला और कहा कि सेनेटरी पार्क में दस लाख रूपए के लिए टेंडर निकाला गया और 75 लाख रूपए खर्च कर दिया।

ये कैसा नियम है और कैसी सरकार है। अधिकारियों से इस पर पूछा गया तो उन्होंने कहा काम हमने नहीं कराया है। गलत कौन है हम नहीं बता सकते। इस पर विपक्षी पार्षदों ने हंगामा शुरू कर दिया। मेयर डा. अजय तिर्की और डिप्टी मेयर अजय अग्रवाल आरोपों का जवाब देने के लिए खड़े हुए और कहा कि विपक्ष की कोई भी बात चिल्ला कर कहने की आदत हो गई है। निगम से लेकर दिल्ली तक यही हालत है। मेयर ने कहा कि अगर विपक्ष तैयार है तो वे 2004 से 2014 तक के सभी कामों की जांच के लिए तैयार हैं और जो भी इसके लिए जिम्मेदार है उस पर कार्रवाई की जाए और आरोप गलत है तो निगम में प्रतिपक्ष के नेता पर मानहानि का केस करुंगा। नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि वे इसके लिए तैयार हैं। उन्होंनें कहा कि भ्रष्टाचार बहुत हुआ है और वे चुप नहीं बैठेंगे। जिम्मेदार लोगों को सजा दिलाकर ही दम लेंगे। शोर गुल के कारण विवाद बढ़ने लगा। इस दौरान कुछ सदस्यों ने अधिकारियों के साथ गाली-गलौज कर दी और इस पर भी हंगामा हुआ। सभापति की समझाइश पर मामला शांत हुआ।

भ्रष्टाचार पर तकरार, कुछ सदस्यों ने अफसरों से गाली-गलौज तक कर दी

महापौर बोले- जांच कराने को तैयार हैं तो बताएं

6 लाख की घड़ी की मरम्मत में 13 लाख फूकें, फिर भी खराब

बैठक में घड़ी चौक की घड़ी को लेकर भी जमकर हंगामा हुआ। विपक्षी पार्षद मधुसूदन शुक्ला ने कहा कि घड़ी चौक के लिए छह लाख में घड़ी खरीदी गई थी और मरम्मत कराते हुए कुल 13 लाख खर्च हो गए लेकिन अब तक घड़ी ठीक नहीं हुई। उन्होंने पूछा कि कैसी घड़ी बनाई जा रही है। जांच कमेटी गठित करने की मांग पर मेयर ने कहा कि कमेटी बनाने की जरूरत नहीं है। अगर गड़बड़ी हुई है तो एजेंसी और जिम्मेदार लोगों पर कार्रवाई की जाए।

पार्षद बोले- शिकायत पर कार्रवाई नहीं होती सभापति ने कहा- ऊपर तक जा सकते हैं

बैठक में कुछ पार्षदों ने शिकायतों पर कार्रवाई नहीं होने पर निर्माण कार्यों में गड़बड़ी के आरोप लगाए। सभापति ने ऐसे पार्षदों काे कहा कि हमारे पास जो एजेंसी है उससे जांच कराने को तैयार हैं। अगर इससे संतुष्ट नहीं है और सुनवाई नहीं हो रही तो आर्थिक अण्वेषण व्यूरो में जाएं। पार्षदों ने अधिकारियों पर ठेकेदारों को संरक्षण देने के आरोप लगाए।

रिंग रोड के निर्माण की धीमी गती पर हंगामा, बरसात से पहले हो पूरा

सामान्य सभा में निर्माणाधीन रिंग रोड के धीमी गति पर पार्षदों ने नाराजगी जताते हुए कहा कि बरसात से पहले काम पूरा नहीं हुआ तो चलना मुश्किल हो जाएगा। ये बात ठीक है कि सड़क निगम की नहीं है लेकिन शहर के लोग परेशान हो रहे हैं। तय हुआ कि दोनों दलों के पार्षद कलेक्टर से मिलकर मांग करेंगे कि बरसात से पहले निर्माण पूरा कराएं।

अटल आवास में गड़बड़ी, कार्रवाई नहीं होने पर पार्षद नाराज

पार्षदों द्वारा अटल आवास के आवंटन में गड़बड़ी पर सवाल उठाए जाने और मामले में कार्रवाई नहीं होने पर भी पार्षदों ने नाराजगी जताई। आयुक्त ने कहा कि जांच में कुछ त्रुटि है। हम फिर से जांच करा रहे हैं ताकि बाद में सवाल न उठे। इस पर जांच कमेटी के प्रभारी द्वितेंद्र मिश्रा ने कहा कि जांच फिर से करा लें इस पर आपत्ति नहीं है लेकिन यह न कहें कि त्रुटि है। पार्षदों का कहना था कि जांच के बाद भी कार्रवाई नहीं की जा रही है।

बजट की कॉपी पहले नहीं देने पर विपक्ष ने जताई आपत्ति

विपक्षी पार्षदों ने बजट की कॉपी समय पर नहीं दिए जाने पर आपत्ति जताते हुए कहा कि इससे उन्हें बजट की घोषणाओं पर अध्ययन करने का समय नहीं मिला। समय पर बजट की कॉपी मिली रहती तो इस पर विस्तार से चर्चा होती। पार्षदों ने कहा कि तीन साल तो समय पर बजट पेश नहीं कर पाए, कोशिश करीएगा कि आखिरी बजट समय पर पेश हो जाए।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..