विज्ञापन

थैलीसीमिया के मरीजों के जल्द इलाज के लिए मेडिकल काॅलेज में शुरू होगा डे केयर सेंटर

Dainik Bhaskar

Feb 14, 2019, 02:02 AM IST

Ambikapur News - संभाग के थैलीसीमिया व थैलीसीमिया से पीड़ित लोगों को सरगुजा मेडिकल काॅलेज में जल्द ही बेहतर इलाज की सुविधा उपलब्ध...

Ambikapur News - chhattisgarh news medical treatment for thalassemia patients will be started at day care center
  • comment
संभाग के थैलीसीमिया व थैलीसीमिया से पीड़ित लोगों को सरगुजा मेडिकल काॅलेज में जल्द ही बेहतर इलाज की सुविधा उपलब्ध होगी। एनएचएम (नेशनल हैल्थ मिशन) के सहयोग से राज्य सिकलसेल संस्थान द्वारा यहां डे केयर सेंटर शुरू करने की तैयारी की जा रही है। संस्थान के विशेषज्ञांेंे की टीम ने सेंटर शुरू करने से पहले यहां की व्यवस्था का जायजा लिया। यह सेंटर पूरी तरह से हीमोलिटिक डिस आर्डर (रक्त से उत्पन्न होने वाली बीमारी) से होने वाली बीमारियों की जांच व इलाज के लिए डेडिकेटेड रहेगा।

मेडिकल काॅलेज के चिकित्सा अधीक्षक डाॅ. रविकांत दास ने बताया कि यह सेंटर अस्पताल के पुराने शिशु वार्ड के पास बनाया जाएगा। यहां की व्यवस्था देखने राज्य सिकलसेल संस्थान के डायरेक्टर डाॅ. टीके अग्रवाल के नेतृत्व में एक टीम ने मंगलवार को मेडिकल काॅलेज का निरीक्षण किया। एनएचएम सेंटर शुरू करने से पहले जरूरी तैयारी के लिए काॅलेज प्रबंधन को पांच लाख रुपए देगा। डे केयर सेंटर शुरू होने के बाद सिकलसेल व थैलीसीमिया पीड़ित की पहचान तत्काल हो जाएगी। इसके लिए मेडिकल काॅलेज को सारी व्यवस्था उपलब्ध कराई जा रही है। जांच के लिए कई जरूरी मशीनें मिलेगी। इनमें एचपीएलसी, सीबीसी, इलेक्टोफोरेसिस एवं साल्यूबिलिटी टेस्ट मशीनें हैं। इन मशीनों से रोग की पहचान कर रोगियों को दवाएं दी जाएंगी। डाॅ. दास के मुताबिक आगे चलकर सेंटर अपग्रेड भी होगा।

सिकलसेल डे केयर सेंटर में ये होंगी सुविधाएं

सेटअप तैयार होने के बाद सिकलसेल डे केयर सेंटर में एक डाॅक्टर व एक काउंसलर की नियुक्ति होगी। इसके अलावा एक मशीनों की जांच के लिए एक लैब तैयार होगा। डाॅक्टर जांच के बाद काउंसलर के पास मरीज को भेजेगा। काउंसलर मरीज से इस रोग के कारणों के बारे में चर्चा कर जरूरी सलाह देगा।

हर महीने कई मरीजों को देना पड़ता है खून

अस्पताल में हर महीने सिकलसेल से पीड़ित कई मरीज पहुंचते हैं। इन्हें ब्लड बैंक से निशुल्क खून दिया जाता है। अभी सरगुजा संभाग में करीब 250 लोग सिकलसेल व थैलीसीमिया रोग से पीड़ित हैं। इन्हें समय-समय पर खून की जरूरत होती है। डे केयर सेंटर शुरू होने से ऐसे मरीजों का और बेहतर इलाज हो पाएगा।

X
Ambikapur News - chhattisgarh news medical treatment for thalassemia patients will be started at day care center
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन