मृतकों के खाते से पीएम आवास की किस्तें निकाल लीं

Bhaskar News Network

Jun 14, 2019, 07:45 AM IST

Ambikapur News - भास्कर संवाददाता| रामानुजगंज रामचंद्रपुर ब्लॉक के ग्राम रेवतीपुर में दो मृत व्यक्तियों के नाम प्रधानमंत्री...

Ramanujnagar News - chhattisgarh news removed pm housing installments from the account of the deceased
भास्कर संवाददाता| रामानुजगंज

रामचंद्रपुर ब्लॉक के ग्राम रेवतीपुर में दो मृत व्यक्तियों के नाम प्रधानमंत्री आवास कागजों में बनकर तैयार कर दी गई। जब इसकी भनक मृतकों के परिजनों को लगी तो इसकी शिकायत जनपद सीईओ से कर जांच की मांग की है।

रामचंद्रपुर के ग्राम पंचायत रेवतीपुर के हरक की मृत्यु एक साल पहले हुई थी। वही गांव के ही शिव शंकर की मौत भी साल भर पहले हुई थी। इन दोनों के नाम से प्रधानमंत्री आवास का किस्त फर्जी खाते में आता रहा एवं आवास मित्र की मिलीभगत से कार्य का फर्जी मूल्यांकन भी किया जाता रहा। इस बीच प्रधानमंत्री आवास की पूरी राशि निकाल ली गई। मृत हितग्राही हरक एवं शिव शंकर के परिजनों को जब इनके नाम से प्रधानमंत्री आवास की राशि निकल जाने की जानकारी प्राप्त हुई तो वे सरपंच सचिव से इस बात की जानकारी लेने पहंुचे। वहां पता चला कि उनका कागजों में तो प्रधानमंत्री आवास बनकर तैयार हो गया है। अब परिजन दोनों के नाम से बने प्रधानमंत्री आवास की तलाश कर रहे हैं। उन्होंने मामले की शिकायत जनपद सीईओ से भी की है। मृत हितग्राही हरक एवं शिव शंकर के परिजन खस्ताहाल मिट्टी के मकान में रहने को मजबूर हैं। इन दोनों परिवारों को प्रधानमंत्री आवास की आवश्यकता है।

इस तरह के आवास में रहने मजबूर हैं ग्रामीण

ब्लॉक से इस तरह की अनियमितता की हैं कई शिकायतें

रामचंद्रपुर ब्लॉक के 82 ग्राम पंचायतों में प्रधानमंत्री आवास ग्रामीण योजना को लेकर अनियमितता बरतने की शिकायत लगातार मिलते रहती हैं यदि पूरे ब्लॉक में इसकी जांच हो जाए तो और कई मामले सामने आ सकते हैं। कई पंचायतों में प्रधानमंत्री आवास के हितग्राहियों से पंचायत कर्मियों द्वारा पैसे वसूलने की भी बात सामने आ चुकी है लेकिन अब तक कार्रवाई नहीं हुई।

बैंक खाते से तीन किस्तों में कैसे चला गया पैसा

प्रधानमंत्री आवास की राशि तीन किश्तों में हितग्राहियों को मिलती है। पहली किस्त के रूप में काम शुरू होने से पहले पुराने घर का फोटो व उसके समतल जमीन का फोटो जियो टैग करने पर 48 हजार रुपए हितग्राही के खाते में जाती है। इसके बाद दूसरी किस्त की राशि टॉप लेवल या डोर लेवल तक होने के बाद फिर 48 हजार खाते में भेजी जाती है। अंतिम किस्त में 34 हजार रुपए हितग्राही के खाते में मिलती हैं। इस मामले मेें आवास मित्र की मिलीभगत से फर्जीवाड़े को अंजाम दिया गया है।

X
Ramanujnagar News - chhattisgarh news removed pm housing installments from the account of the deceased
COMMENT