• Home
  • Chhattisgarh News
  • Ambikapur News
  • आंधी मेंे शार्ट-सर्किट से तीन दुकानें जलकर खाक, 5 लाख का नुकसान
--Advertisement--

आंधी मेंे शार्ट-सर्किट से तीन दुकानें जलकर खाक, 5 लाख का नुकसान

सोमवार-मंगलवर की देर रात चली तेज हवा के बीच गांधीनगर नाका में बिजली के शार्ट-सर्किट से तीन दुकानें आग की चपेट में आ...

Danik Bhaskar | May 02, 2018, 02:00 AM IST
सोमवार-मंगलवर की देर रात चली तेज हवा के बीच गांधीनगर नाका में बिजली के शार्ट-सर्किट से तीन दुकानें आग की चपेट में आ गई। पता चलने पर पुलिस ने फायर ब्रिगेड को बुलवाया पर तब तक आग भीषण रूप ले चुकी थी।

फायर ब्रिगेड की टीम ने शटर तोड़कर किसी आग पर काबू तो पा लिया पर तब तक ऑटो पार्ट्स सह गैरेज, जनरल स्टोर व सैलून का सामान जलकर खाक हो चुका था। दो घंटे की मशक्कत से आग पर काबू पाने से बड़ा हादसा टल गया। क्योंकि आसपास कई दुकानें लगी थी और आग फैलती तो उस पर काबू पाना मुश्किल हो जाता। आग से ऑटो पार्ट्स संचालक को जहां साढ़े तीन लाख का नुकसान हुआ है वहीं जनरल स्टोर व सैलून संचालक को सवा लाख व पचास हजार की क्षति हुई है। गांधीनगर नाका में मोहल्ले के ही राजू विश्वास, सिकंदर ठाकुर व लव दुबे उर्फ गौतम की किराए की दुकान है। राजू ऑटो पार्ट्स की दुकान व गैरेज चलाता है। सिकंदर का सैलून व गौतम का जनरल स्टोर का कारोबार है। सोमवार की देर शाम को तीनों अपनी-अपनी दुकान बंदकर घर चले गए थे। इसी दौरान रात में चल रही तेज हवा के बीच उनकी दुकान में आग लग गई। इसके बारे में साढ़े 12 बजे उस समय पता चला जब पुलिस की पेट्रोलिंग पार्टी उधर से गुजरी। तीनों दुकानों से एक धुआं निकलता देख पुलिसकर्मियों को संदेह हुआ। पुलिस ने फायर ब्रिगेड को सूचना दी।

आॅटो पार्ट्स सह गैरेज, जनरल स्टोर व सैलून में लगी थी आग

शटर बंद होने से तीनों दुकानों में अंदर पूरी तरह फैल चुकी थी आग।

तेज हवा में हाई टेंशन तार सटने से ट्रांसफार्मर से आवाज के साथ निकली थी चिंगारी

आस-पास के लोगों के अनुसार रात में तेज हवा चलने से हाई टेंशन की लाइन के तार आपस में सट गए थे। इससे ट्रांसफार्मर में तेज आवाज के साथ चिंगारी निकलने लगी थी। इससे आशंका जताई जा रही है कि ट्रांसफार्मर के शार्टसर्किट से दुकान में आग लगी होगी। तीनों दुकानें ट्रांसफार्मर के पास में ही है। घटना के बाद गांधीनगर नाके में लाइट बंद हो गई थी। भोर में मरम्मत के बाद दोबारा िबजली सप्लाई शुरू हुई।

गर्मी शुरू होते ही बढ़ गई आग लगने की घटनाएं: गर्मी शुरू होते ही शहर सहित आस-पास के इलाके में आग लगने की घटनाएं बढ़ गई है। अप्रैल में ही शहर सहित आस-पास के क्षेत्रों में आग लगने की 20 घटनाएं हो चुकी हैं। इनमें चलती गाड़ियों में आग लगने की घटनाएं सामने आई है। कुछ दिन पहले परसा में एक बस जल गई थी। इसी प्रकार लुचकी के पास एक पिकप में आग लग गई थी। इसके अलावा मार्च में आग लगने की 15 घटनाएं हुई है।

पेट्रोलिंग की टीम की नजर नहीं पड़ती तो आसपास बड़े स्तर पर फैल सकती थी आग

आग पर काबू पा लिए जाने से बड़ा हादसा टल गया है। जिन दुकानों में आग लगी थी, उससे लगी कई और दुकानें हैं। यदि पुलिस की पेट्रोलिंग पार्टी की नजर आग पर नहीं पड़ती को कुछ भी हो सकता था। समय रहते फायर ब्रिगेड की टीम ने भी इस पर काबू पा लिया। आस-पास होटल भी थे। वहां गैस सिलेंडर आदि भी थे। यदि आग वहां तक पहुंचती तो आग पर नियंत्रण पाना मुश्किल हो जाता।

सब्बल से शटर तोड़कर आग बुझाने मशक्कत, सभी सामान हुए खाक

तीनों दुकानों में ताला बंद था। आग की लपटों से शटर काफी गर्म हो गया था। ताले को चाबी से खोलना मुश्किल था। इससे दमकल कर्मियों ने सब्बल से तीनों दुकान का किसी तरह शटर तोड़ा। तब तक आग पूरी दुकान में फैल गई थी। दमकल कर्मियों ने किसी तरह आग पर काबू पाया। दो घंटे की मशक्कत के बाद तीनों दुकानों में लगी आग बुझाई जा सकी लेकिन तब तक पूरा सामान जलकर नष्ट हो गया था।

सामान के साथ गैरेज में ग्राहक की स्कूटी और बाइक भी जली

आग से सबसे ज्यादा नुकसान ऑटो पार्ट्स सह गैरेज संचालक राजू विश्वास को हुआ है। दुकान में रखा ऑटो पार्ट्स, हवा भरने की मशीन, ग्राहक की एक स्कूटी व एक प्लसर बाइक जल गई है। मरम्मत के बाद उसने गैरेज में बाइक व स्कूटी रखी थी। बाइक की आज डिलीवरी होनी थी। उसे करीब साढ़े तीन लाख रुपए का नुकसान हुआ है। जनरल स्टोर संचालक को करीब सवा लाख व सैलून संचालक को 50 हजार रुपए का नुकसान हुआ है। उन्होंने गांधीनगर थाने में रिपोर्ट की है।