• Hindi News
  • Chhatisgarh
  • Ambikapur
  • कोचिंग के लिए जाना था कोटा, सुबह कमरे में नहीं मिला, मां ने छत से देखा तो नीचे पड़ा था बेटे का शव
--Advertisement--

कोचिंग के लिए जाना था कोटा, सुबह कमरे में नहीं मिला, मां ने छत से देखा तो नीचे पड़ा था बेटे का शव

Dainik Bhaskar

May 03, 2018, 02:00 AM IST

Ambikapur News - कोटा में कोचिंग के लिए लिया था एडमिशन, जाने के लिए खुद की थी पूरी तैयारी, सुबह ट्रेन से निकलना था छात्र को साइंस...

कोचिंग के लिए जाना था कोटा, सुबह कमरे में नहीं मिला, मां ने छत से देखा तो नीचे पड़ा था बेटे का शव
कोटा में कोचिंग के लिए लिया था एडमिशन, जाने के लिए खुद की थी पूरी तैयारी, सुबह ट्रेन से निकलना था छात्र को

साइंस में रुचि, आईआईटी से इंजीनियरिंग करने चाह

सोहम मेधावी छात्र था। उसकी साइंस में काफी रूचि थी। ज्यादातर समय पढ़ाई में व्यस्त रहने के कारण क्लास छात्र सहित मोहल्लों के लड़कों से उसकी कम बातचीत होती थी। उसने साइंस से जुड़े खुद कई प्रोजेक्ट बना रखे थे। परिजनों के अनुसार वह आईआईटी से इंजीनियरिंग करना चाहता था और इसीलिए कोचिंग के लिए कोटा जाने की तैयारी की थी। उसने ऐसा कदम क्यों उठाया, यह कोई नहीं समझ पा रहा है।

वैभव बोला- रात में तीन बजे तक जगा था सोहम

रिश्तेदारों के अनुसार सोहम अपने छोटे भाई वैभव के साथ कमरे में सोया था। वैभव रात करीब तीन बजे उठा तो सोहम जगा हुआ था। वैभव ने यह कहते हुए उसे सोने के लिए कहा कि सुबह आप को ट्रेन पकड़नी की है। इसके बाद लाइट बंद कर वह सोने लगा। वैभव भी फिर सो गया।

घटनास्थल पर जमा लोगों की भीड़।

घटना स्थल से छात्र का मोबाइल फार्मेट मिला

घटना की सूचना पर कोतवाली पुलिस पहुंची। पुलिस ने आस-पास सहित सोहम के कमरे की तलाशी ली लेकिन वहां से कुछ भी नहीं मिला। शव के पास ही सोहम का मोबाइल पड़ा था जिसे पुलिस ने जब्त कर लिया। उसका मोबाइल फार्मेट हालत में है। पुलिस ने मोबाइल को चालू कर जांच की तो उसमें कोई डेटा नहीं था।

खुद की बिल्डिंग में सेंकेड फ्लोर में व्यवसायी का फ्लैट

सोहम के पिता संतोष गाेयल एक प्रतिष्ठत व्यवसायी हैं। उनका विजय मार्ग में खुद का फ्लैट है। ग्राउंड फ्लोर में उन्होंने सेंट्रल बैंक व फर्स्ट फ्लोर में छत्तीसगढ़ ग्रामीण बैंक को किराए में दिया है। सेंकेंड फ्लोर में वे अपने परिवार के साथ रहते हैं। संतोष के दो बेटे व एक बेटी हैं। सोहम की मौत ने पूरे परिवार को सदमे डाल दिया है।

कोटा जाने के लिए सोहम ने खुद की थी पूरी तैयारियां

परिजन व रिश्तेदारों के अनुसार सोहम ने होलीक्रास कान्वेंट स्कूल में इस साल 12वीं साइंस ग्रुप से परीक्षा दी है। इंजीनियरिंग की तैयारी के लिए उसने कोटा के एक कोचिंग सेंटर में इंट्रेंस एग्जाम दिया था। एग्जाम क्लियर होने के बाद उसने कोटा जाने के लिए खुद तैयारी की थी। उसने मोबाइल से आनलाइन टिकट बुक किया था। उसकी मंगलवार को अंबिकापुर-जबलपुर ट्रेन में अनूपपुर तक के लिए टिकट थी। वहां से कोटा जाने के लिए ट्रेन पकड़नी थी।

मोबाइल का डेटा रिकवर करने की कोशिश

पुलिस ने सोहम के कमरे व किताबों की तलाशी ली लेकिन वहां से मामले से जुड़ी कोई भी चीज नहीं मिली। घटना स्थल से मिला मोबाइल भी फार्मेट किया हुआ है। पुलिस मोबाइल का डेटा रिकवर करने का प्रयास कर रही है। इससे ही कुछ जानकारी मिल सकती है। इसके साथ ही उसके काल डिटेल की भी जांच की जा रही है।

X
कोचिंग के लिए जाना था कोटा, सुबह कमरे में नहीं मिला, मां ने छत से देखा तो नीचे पड़ा था बेटे का शव
Astrology

Recommended

Click to listen..