बर्खास्तगी के बाद भी काम कर रहा संचालक मंडल

Anchalik News - भाटापारा| खैरा सहकारी समिति के किसानों ने प्रदेश कांग्रेस सचिव सुशील शर्मा के नेतृत्व में कलेक्टर कार्तिकेय गोयल...

Bhaskar News Network

Jun 15, 2019, 06:35 AM IST
Bhatapara News - chhattisgarh news board of directors working after dismissal
भाटापारा| खैरा सहकारी समिति के किसानों ने प्रदेश कांग्रेस सचिव सुशील शर्मा के नेतृत्व में कलेक्टर कार्तिकेय गोयल से मुलाकात की। किसानों ने बताया कि खैरा समिति के संचालक मंडल के पदाधिकारियों द्वारा बर्खास्तगी के बाद भी समिति में प्रस्ताव पास कर कई कार्याें में 5 से 7 लाख रुपए खर्च की गई है। इसमें प्रबंधक भी मिले हुए हैं।

किसानों ने जल्द नए संचालक मंडल गठित करने की मांग की। किसानों ने कहा कि यदि 3 दिन के भीतर इस मामले में कार्रवाई नहीं हुई तो मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से मुलाकात कर समस्या बताएंगे।

कांग्रेसी नेता सुशील शर्मा एवं किसानों ने बताया कि उपपंजीयक ने धान खरीदी में मनमानी की शिकायत जांच में सही पाए जाने पर 20 फरवरी को वर्तमान संचालक मंडल को निलंबित किया। इस निलंबन की अवधि 6 महीने तक होगी। सुशील शर्मा ने कहा कि जब शासन ने समिति को निलंबित किया उसके बाद भी संचालक मंडल गैर कानूनी रूप से समिति का संचालन कैसे और किसके इशारे पर कर रही है। यह समझ से परे है। इस मामले में प्रबंधक से बात करने की कोशिश की गई, लेकिन उनका फोन बंद बताया। कलेक्टर से मिलने वाले किसानों में इंद्र वर्मा, नाथू वर्मा, निर्मल वर्मा, तुलाराम वर्मा, हेमलाल यदु, लखेश्वर वैष्णव, रुपनाथ वर्मा, टेकराम वर्मा, लखन जायसवाल, रूपाऊ वर्मा, कन्हैया गिरी, साहेब लाल, चैतराम ध्रुव शामिल थे।

खैरा सहकारी समिति के खिलाफ कलेक्टर से शिकायत करते किसान।

धान की तौलाई अधिक होने पर हुआ था निलंबन

कांग्रेसी नेता सुशील शर्मा एवं किसानों ने बताया कि समिति द्वारा पूर्व में किसानों से 2 से 3 किलो धान की अधिक तौलाई की गई थी, जिसकी जानकारी सुपरवाइजर, पटवारी और समिति अध्यक्ष को दी गई थी। इसकी भरपाई करने किसानों और संचालक मंडल के सदस्यों के बीच 50 रुपए प्रति क्विंटल प्रति किसान को देने की सहमति बनी थी, किंतु किसानों को पैसा नहीं मिला। इसके बाद किसानों ने हक और अधिकार की लड़ाई लड़ी और संचालक मंडल की अफसरों से शिकायत की गई, इस पर निलंबन की कार्यवाही हुई थी।

X
Bhatapara News - chhattisgarh news board of directors working after dismissal
COMMENT