नशे के बाद होने वाली दुर्दशा, मानव स्वभाव पर कसा तंज

Anchalik News - स्वामी विवेकानंद जयंती एवं नववर्ष आगमन पर युवा एकता मंच लोहझर ने विराट हास्य कवि सम्मेलन और सम्मान समारोह का...

Bhaskar News Network

Jan 14, 2019, 02:21 AM IST
Chhura News - chhattisgarh news danger on the aftermath how much tan on human nature
स्वामी विवेकानंद जयंती एवं नववर्ष आगमन पर युवा एकता मंच लोहझर ने विराट हास्य कवि सम्मेलन और सम्मान समारोह का आयोजन शाकंभरी माता के प्रांगण में किया। तत्पश्चात महासमुंद से पधारे कवि सुरेंद्र कुमार अग्निहोत्री ‘आगी’ ने मां शारदे की स्तुति के साथ काव्यमंच का आगाज किया। इसके बाद स्मरण साहित्य समिति छुरा के गीतकार नितिश ‘सोनी’ ने बरस रे करिया बादर गाकर समा बांधी। हास्य कवि विनोद यादव ने नशा उन्मूलन, देवेंद्र ध्रुव ‘फुटहा करम’ ने हास्य अपन बेनी मा दूसर के दे फूल खोंच के आय हे और अर्जुन धनंजय सिन्हा ने नशे के बाद होने वाली दुर्दशा को कविता में परोसा।

व्यंग्यकार ललित साहू ‘जख्मी’ ने धर्म और मानव स्वभाव की वास्तविक स्थिति पर तंज कसते हुए गंभीर व्यंग्य, धर्म कहां से फिर लौटे मेरे राम के इस देश में पढ़कर श्रोताओं को झकझोर दिया। हीरालाल साहू ‘समय’ ने मोबाइल महिमा, देवनारायण यदु ने विवेकानंद की जीवनवृत्त पर रचना पढ़ी। छुरा के हास्य कवि गोविंद यादव की प|ी महिमा की बखान कविता सुनकर अपनी हंसी रोक नहीं पाई। इसके बाद बेमचा के कवि डॉ. रामशरण चंद्राकर की राजनीतिक परिवेश पर जबरदस्त समसामयिक घटनाओं का जीवंत व्यंग्य रचनाओं का श्रोताओं ने लुत्फ लिया।

महासमुंद के हास्य कवि की हास्य पैरोडी गीतों ने मंच को हास्य की बुलंदियों पर पहुंचाया। अपने चीर परिचित अंदाज में काव्य मंच का सफल संचालन करते हुए भगवती चरण यदु बागी की गीत, कविता और गजलों से श्रोता झूम उठे। अंत में आयोजक समिति ने आमंत्रित कवियों को पेन-श्रीफल और प्रशस्ति-पत्र देकर सम्मानित किया। इसके पहले अतिथि सरपंच सातोबाई ठाकुर, युवा एकता मंच के अध्यक्ष फलेंद्र ठाकुर, सहकारी बैंक के कैशियर ओमप्रकाश यदु, विद्या मंदिर के अध्यक्ष कुलेश साहू, कोटवार लक्ष्मण नेताम, वार्ड पंच खम्मन लाल उपस्थित थे। कार्यक्रम की शुरुआत अतिथियों, आमंत्रित कवियों ने युवाओं के प्रेरणास्रोत स्वामी जी के छायाचित्र पर दीप जला और पूजाकर किया।

कार्यक्रम में युवा मंच के सदस्य हुबलाल पटेल, योगेश पटेल, धनीराम ध्रुव, डॉ. युवराज साहू, भानू यदु, नोहर लाल पटेल, पवन ध्रुव, भोजराम पटेल सहित बड़ी संख्या में ग्रामीण एवं माताएं-बहनें उपस्थित थीं। आभार संयोजक शंकरलाल यदु और संचालन हेमलाल पटेल ने किया।

सम्मेलन में मौजूद कवियों को प्रशस्ति-पत्र देकर सम्मानित किया गया।

X
Chhura News - chhattisgarh news danger on the aftermath how much tan on human nature
COMMENT