विज्ञापन

प्रतिबंध के बावजूद पोकलेन चला रहे, गांवों की सड़कें हो रहीं खराब

Dainik Bhaskar

Mar 16, 2019, 03:16 AM IST

Anchalik News - दशक भर पहले तक पहुंचविहीन रहे टेकारी, आमाकोनी, रानीजरौद, मानिकपुर आदि गांवों के ग्रामीणों ने बड़ी मशक्कत के बाद...

Rawan News - chhattisgarh news despite the ban pokleen is running the roads of the villages are getting worse
  • comment
दशक भर पहले तक पहुंचविहीन रहे टेकारी, आमाकोनी, रानीजरौद, मानिकपुर आदि गांवों के ग्रामीणों ने बड़ी मशक्कत के बाद प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत सड़क निर्माण कराया था। इसके लिए टेकारी के लोगों ने 2013 में हुए विधानसभा चुनाव का बहिष्कार तक किया था। ग्रामीण अभी सड़क सुविधा का ढंग से लाभ भी नहीं उठा पाए थे कि गांव के बीच स्टोन क्रशर एवं माइंस संचालकों द्वारा प्रतिबंध के बावजूद चैन माउंटेन पोकलेन चलाकर सड़क को बर्बाद किया जा रहा है। उनकी इस मनमानी से ग्रामीणों में आक्रोश व्याप्त है।

टेकारी के गज्जू वर्मा, उत्तम वर्मा, राजेंद्र वर्मा, अखिलेश सिन्हा, अनिल सिन्हा, आमाकोनी के डॉ. पूनाराम पाल, उत्तम यदु, शानू साहू तथा रानीजरौद के योगेंद्र साहू, सेवकराम साहू, जितेंद्र ध्रुव आदि ने बताया कि पुरुषोत्तम पटेल, सतगुरू, महालक्ष्मी, चक्रधारी क्रशर कल्लू सहित दर्जनों स्टोन माइंस संचालकों के रवैए से ग्रामीण त्रस्त हैं। वे प्रमं ग्राम सड़क विभाग द्वारा सड़क किनारे खोदी गई नालियों में खदान की मिट्टी डालकर पाटा रहे हैं। जगह जगह लगे प्रतिबंध सूचक बोर्ड के बावजूद सड़क पर चैन माउंटेन पोकलेन चलाकर सड़क को बर्बाद किया जा रहा है। लोगों ने बताया कि उनके द्वारा भी माइंस संचालकों को मना किया जाता है परंतु वे बाज नहीं आ रहे हैं।

टेकारी के ग्राम पटेल जीवन जायसवाल पूर्व सरपंच सुखनंदन नायक सहित ग्रामीणों ने कहा कि क्रशर वाले आज हैं, कल चले जाएंगे परंतु हमें तो यहीं रहना है और एक बार सड़क खराब होने के बाद मरम्मत करवाने के लिए पता नहीं हमें कहां कहां और कितने दिन भटकना पड़ेगा। लोगों ने प्रमं सड़क विभाग के अधिकारियों पर भी आरोप लगाते हुए कहा कि जानकारी के बावजूद उनके द्वारा दोषियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की जाती। उन्होंने प्रधानमंत्री ग्राम सड़क विभाग के अधिकारियों से दोषियों पर तत्काल कार्रवाई की मांग की है।

सड़क किनारे खड़ी पोकलेन, जिसके चलने से सड़क खराब हो रही है।

सड़क किनारे चैन माउंटेन पोकलेन प्रतिबंधित सूचना बोर्ड लगा है ।

पोकलेन चलने से खराब हो रहा रानी जरौद, आमाकोनी, टेकारी मार्ग।

मांगने पर भी पानी नहीं देते

लोगों ने कहा कि हालांकि उनके द्वारा कानूनी लीज लेकर पत्थर निकाला जा रहा है परंतु असिंचित क्षेत्र में ग्रामीणों को फसल पकाने के लिए पानी की आवश्यकता होती है तो मांगने पर भी खदान का पानी नहीं देते। बांध में जाने वाली नालियों को मिट्टी डालकर बंद कर दिया जाता है और गर्मी के दिनों में खदान के पानी को संयंत्रों को बेच देते हैं और बीते 6 महीनों से यह रसूखदार लोग सड़क को बर्बाद करने में तुले हुए हैं।

नोटिस दिलवाएंगे

इस संबंध में प्रधानमंत्री ग्राम सड़क के एई आरबी सोनी ने कहा कि हमारे द्वारा पहले भी पता किया गया था परंतु जानकारी नहीं मिल पाई थी। उन्होंने कहा कि दोषियों के खिलाफ कलेक्टर के माध्यम से तत्काल नोटिस भेजी जाएगी।

X
Rawan News - chhattisgarh news despite the ban pokleen is running the roads of the villages are getting worse
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन