• Hindi News
  • National
  • Gariyaband News Chhattisgarh News Dirty Water Flowing On The Way By Having A Deep Groove

कम गहरी नाली होने से रास्ते में बह रहा गंदा पानी

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
गरियाबंद| नगर पालिका के वार्ड-एक साईं नगर में थाना के पीछे रहने वाले मोहल्लेवासी नाली के गंदे पानी और बदबू से परेशान हैं। सड़क के अनुपात में कम गहराई में बनी नाली के पानी की निकासी की उचित व्यवस्था नहीं होने के कारण अक्सर नाली का पानी सड़क पर आ जाता है। इसके चलते मोहल्लेवासियों सहित इस मार्ग से आने-जाने वाले लोगों को रोज इस गंदे पानी और बदबू का सामना करना पड़ता है। इस समस्या को लेकर मंगलवार को मोहल्लेवालों ने जनदर्शन में कलेक्टर से गुहार लगाकर समस्या से निजात दिलाने की मांग की।

वार्ड-एक में पुलिस कॉलोनी के पीछे आम रास्ता पर रोज नाली का गंदा पानी सड़क पर आ जाता है। यहां कुछ साल पहले नगर पंचायत के दौरान नाली बनाई थी, लेकिन ये नाली छोटी और सड़क के अनुपात में कम गहरी बनाई गई थी, जिसके चलते इसका गंदा पानी अक्सर बाहर आ जाता है। वहीं निकासी की उचित व्यवस्था नहीं होने से पानी यहां जमा रहता है, जिससे सालभर बदबू आती है। बारिश के दिनों में स्थिति और खराब हो जाती है। थोड़ी से बारिश के पानी में नाली का पूरा मलबा और गंदा पानी घरों में घुसना शुरू हो जाता है। फिर भी पालिका प्रशासन इस पर ध्यान नहीं देता है। मानसून आने के बाद अब मोहल्लेवासियों को इसकी चिंता सताने लगी है। जनदर्शन में मौजूद कल्याणी पटेल, चन्द्रिका साहू, निर्मला साहू, बिलकिस बानो, रंजिता पटेल, कुमारी बाई ठाकुर, शाहिदा बानो, विजय साहू, रहमान खान, सुरेश देवांगन, परदेशी, राजू, घनश्याम पटेल ने बताया कि जबसे नाली बनी है पूरे मोहल्लेवासी परेशान हैं। जैसी नाली बनना चाहिए, वैसी नहीं बनी। छोटा और गुणवत्ताहीन नाली का निर्माण किया गया है, जिससे पानी निकासी नहीं होने से गंदा पानी बारो माह आम रास्ता पर बहता रहता है। इसके कारण बदबू और होने वाली समस्या से सभी परेशान हैं।

गरियाबंद. कलेक्टोरेट में लगे जनदर्शन में ज्ञापन देते हुए वार्ड-1 के लोग।

बड़ी नाली बनाने आई थी राशि, लैप्स हो गई
वार्ड की पार्षद प्रतिभा पटेल ने बताया कि नाली की समस्या लेकर कई बार पालिका प्रशासन के पास जा चुके हैं, लेकिन कोई ध्यान नहीं देने पर मोहल्लेवासियों को कलेक्टर जनदर्शन में आना पड़ा। पार्षद ने बताया कि बड़ी नाली बनाने के लिए राशि भी आ गई थी, यहां तक टेंडर भी लग चुका था। ठेकेदार द्वारा समय पर काम चालू नहीं करने के कारण राशि लैप्स हो गई।

खबरें और भी हैं...