Hindi News »Chhatisgarh »Bacheli» महिला सशक्तिकरण और सामुदायिक विकास के लिए एनएमडीसी को अवार्ड

महिला सशक्तिकरण और सामुदायिक विकास के लिए एनएमडीसी को अवार्ड

दंतेवाड़ा | महिला सशक्तिकरण व सामुदायिक विकास के लिए की जा रही एनएमडीसी की पहल को एक बार फिर राष्ट्रीय स्तर पर पहचान...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 06, 2018, 02:00 AM IST

दंतेवाड़ा | महिला सशक्तिकरण व सामुदायिक विकास के लिए की जा रही एनएमडीसी की पहल को एक बार फिर राष्ट्रीय स्तर पर पहचान मिली है। जिले में संचालित विभिन्न सीएसआर योजनाओं के सफल क्रियान्वयन पर एनएमडीसी कंपनी को ईटी नॉउ सीएसआर लीडरशिप अवार्ड से सम्मानित किया गया है। यह पुरस्कार कंपनी के हैदराबाद मुख्यालय में आयोजित कार्यक्रम में निदेशक कार्मिक संदीप तुला व बैलाडीला लौह अयस्क खदान बचेली कांप्लेक्स के कार्यपालक निदेशक अरूण कुमार शुक्ल ने सीएमडी एन बैजेंद्र कुमार को दिया। कार्यक्रम में कंपनी के सीएमडी एन बैजेंद्र ने कहा कि एनएमडीसी की प्रमुख गतिविधियां दंतेवाड़ा जिले में संचालित है, इसलिए कंपनी अपने सीएसआर बजट का ज्यादातर हिस्सा छत्तीसगढ़ में खर्च कर रही है। बालिका शिक्षा सहयोग योजना के जरिए कोशिश है कि महिला सशक्तिकरण के साथ ही प्रदेश में पैरा मेडिकल स्टाफ की कमी भी दूर हो सके।

250 से ज्यादा छात्राओं ने की नर्सिंग की ट्रेनिंग : एनएमडीसी द्वारा अपनी बैलाडीला लौह अयस्क खदानों के आसपास के क्षेत्रों में सामाजिक उत्तरदायित्व के तहत विभिन्न विकास योजनाएं संचालित की जा रही है। इनमें प्रमुख रूप से बालिका शिक्षा सहयोग योजना के तहत कंपनी द्वारा निर्धन वर्ग की जरूरतमंद युवतियों को नर्सिंग एजुकेशन की पढ़ाई के लिए प्रायोजित किया जाता है। हैदराबाद के प्रख्यात अपोलो स्कूल ऑफ नर्सिंग में इन छात्राओं की पढ़ाई और रहने-खाने का खर्च कंपनी वहन करती है।

अभी तक कंपनी द्वारा ढाई सौ से अधिक छात्राओं को नर्सिंग की ट्रेनिंग दी जा चुकी है। इनमें से कई बस्तर समेत देश के अन्य हिस्सों में बतौर नर्स नौकरी कर रही हैं। आत्मनिर्भरता के जरिए महिला सशक्तिकरण के इस सफल उदाहरण को सीएसआर लीडरशिप अवार्ड के जरिए अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मान्यता मिली है।

महिला सशक्तिकरण के साथ प्रदेश में पैरा मेडिकल स्टाफ की कमी दूर करने की कोशिश की जा रही

सीएसआर लीडरशिप अवार्ड के लिए 12 से ज्यादा कंपनियों ने दिखाई रुचि

सीएसआर लीडरशिप अवार्ड के लिए आवेदन में 15 देशों की दर्जनभर से ज्यादा कंपनियों ने रुचि दिखाई थी। विभिन्न मानकों पर जांच के बाद एनएमडीसी का चयन इस पुरस्कार के लिए किया गया। बालिका शिक्षा सहयोग योजना के साथ सामुदायिक विकास में भी एनएमडीसी की पहल को पुरस्कार मूल्यांकन समिति द्वारा सराहा गया।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bacheli

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×