Hindi News »Chhatisgarh »Bacheli» किसान बोले- पट्‌टा लेंगे पर पैसा वापस नहीं करेंगे

किसान बोले- पट्‌टा लेंगे पर पैसा वापस नहीं करेंगे

अपनी जमीन का पट्‌टा लेकर रहेंगे और इसके बदले में टाटा या सरकार को एक भी रुपए नहीं देंगे। 800 एकड़ जमीन लेने के लिए...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 05, 2018, 02:10 AM IST

अपनी जमीन का पट्‌टा लेकर रहेंगे और इसके बदले में टाटा या सरकार को एक भी रुपए नहीं देंगे। 800 एकड़ जमीन लेने के लिए सरकार ने किसानों पर काफी जुल्म किया है, जिसे किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जा सकता। यह बातें जमीन वापसी की मांग को लेकर हाता ग्राउंड में धरने पर बैठे किसानों और अादिवासी महासभा के उपाध्यक्ष कमलसाय ने कही।

किसानों ने कहा कि जमीन के बदले में करीब 80 फीसदी किसानाें को पैसा देने की बात राज्य सरकार कर रही है, जो गलत है। कुछ किसान ऐसे भी हैं जिनकी जमीन लेने के बाद पैसा दूसरे के खाताें में डाल दिया गया है। जिन किसानाें को पैसा मिला था, वे उसे खर्च कर चुके हैं। उनकी आमदनी इतनी नहीं है कि वे इस पैसे को वापस कर सकें। नतीजनत टाटा ने जौ पैसा किसानों को दिया है, वह वापस नहीं होगा। बेलर के उपसरपंच दशरथ ने कहा कि जब तक जिला प्रशासन उनकी जमीन के पट्‌टे को वापस और रिकार्ड में संशोधन नहीं करेगा, तब तक प्रदर्शन जारी रहेगा।

धरना

प्लांट के लिए अधिगृहित 800 एकड़ जमीन वापस लेने की मांग को लेकर हाता ग्राउंड में धरने पर बैठे हैं किसान

जगदलपुर. हाता ग्राउंड में धरने पर बैठे लोहांडीगुड़ा ब्लाक के किसान।

नहीं पहुंचे नेता, किसान बोले-भुगतेंगे खामियाजा

लोहांडीगुड़ा ब्लाॅक के किसानों की मांग का समर्थन करने के लिए दंतेवाड़ा, किरंदुल और बचेली के मजदूर यूनियन के पदाधिकारी और कार्यकर्ता रविवार को किसानों के धरने में शामिल होने की बात कही थी, लेकिन नहीं पहुंचे। अन्य राजनीतिक पार्टियाें के लोग भी किसानों की मांग का समर्थन करने के लिए नहीं पहुंचे। इसे लेकर नाराज किसानों ने कहा, इसका खामियाजा राजनीतिक पार्टियों को आने वाले चुनाव में दिखाई देगा। आदिवासी महासभा के सचिव मंगलराम कश्यप ने कहा कि मजदूर यूनियन के सदस्यों ने शनिवार की रात को धरना में शामिल नहीं होने की जानकारी दे दी थी।

10 गांव से पहुंचे थे ग्रामीण

रविवार को 10 गांव के ग्रामीण धरना में शामिल हुए। मांग को पूरा करवाने उन्हें हर दिन करीब 90 किमी की दूरी तय करनी पड़ रही है। इसके बावजूद वे हिम्मत नहीं हार रहे हैं। महासभा के सचिव मंगलराम ने कहा रविवार को 10 गांव के करीब 300 से अधिक ग्रामीण धरना में शामिल होकर किसानों का समर्थन किया।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bacheli

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×