• Home
  • Chhattisgarh News
  • Bacheli News
  • नक्सलियों ने ट्रैक पर गिराया पेड़, इंजन को नुकसान, 17 घंटे बाधित रहा रेलमार्ग
--Advertisement--

नक्सलियों ने ट्रैक पर गिराया पेड़, इंजन को नुकसान, 17 घंटे बाधित रहा रेलमार्ग

नक्सलियों ने शनिवार की देर रात केके रेलवे लाइन पर भांसी से बचेली के बीच बड़े-बड़े पेड़ काटकर गिरा दिए, जिससे इस रूट पर...

Danik Bhaskar | Jan 15, 2018, 02:10 AM IST
नक्सलियों ने शनिवार की देर रात केके रेलवे लाइन पर भांसी से बचेली के बीच बड़े-बड़े पेड़ काटकर गिरा दिए, जिससे इस रूट पर रेल यातायात करीब 17 घंटे बाधित रहा। बचेली से 2 किमी दूर रात करीब 1 बजे खंभा नंबर 435/17 के पास इस वारदात को अंजाम दिया गया। वहां से गुजर रही मालगाड़ी भी इन पेड़ों की चपेट में आ गई। ट्रेन का पहला इंजन सही सलामत निकल गया, लेकिन दूसरे व तीसरे इंजन को हल्का नुकसान पहुंचा। खुशकिस्मती से मालगाड़ी डिरेल नहीं हुई, लेकिन ट्रेन को बिजली सप्लाई करने वाली ओएचई लाइन बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गई। ट्रेन के रुकते ही नक्सलियों ने ट्रेन के ड्राइवर के रामू और पिछले हिस्से में गार्ड डिब्बे के पास पहुंचकर गार्ड भोलाराम के पास से वाकी-टॉकी सेट छीन लिया। सूचना पर फोर्स के साथ पहुंचे बचेली टीआई सौरभ सिंह ने बताया कि मौके से बैनर भी बरामद हुआ है। घटना के बाद सुबह ओएचई और लाइन की मरम्मत शुरू कर दी गई थी। शाम को रेल यातायात शुरू हो गया।

भैरमगढ़ एरिया कमेटी का हाथ : वारदात में इलाके में सक्रिय भैरमगढ़ एरिया कमेटी के नक्सलियों का हाथ होने की संभावना जताई जा रही है, क्योंकि वारदात के बाद नक्सलियों ने घटना स्थल पर लाल कपड़े में लिखा बैनर बांध दिया था, जिसमें भैरमगढ़ एरिया कमेटी के हवाले से सरकारी की नीतियों का विरोध किया गया है। बैनर में नक्सलियों ने गुदुम मुठभेड़ में अपने साथी डोडी बुधराम और आेयाम के मारे जाने का जिक्र करते हुए करका में मारे गए किशोर मड़काम सोमडू की हत्या करने को आरोप सुरक्षा बलों पर लगाया। ऑपरेशन प्रहार-2 के नाम से बेकसूर लोगों की हत्या बंद करने की मांग करते हुए कार्पोरेट कंपनियों को खदान व जमीन देने पर विरोध जताया है।

बचेली-भांसी के बीच शनिवार की देर रात हुई वारदात

पैसेंजर और एक्सप्रेस ट्रेन बंद

इस वारदात के चलते पैसेंजर ट्रेन किरंदुल में ही खड़ी रही। विशाखापट्नम से किरंदुल तक जाने वाली पैसेंजर ट्रेन कोरापुट में ही स्थगित कर उसे कोरापुट और विशाखापटनम के बीच चलाया गया। जबकि विशाखापट्नम से किरंदुल के बीच चलने वाली एक्सप्रेस ट्रेन जगदलपुर और विशाखापटनम की बीच ही चली।